Thursday, 14th December, 2017

चलते चलते

युवक को ग़ुलाम अली की ग़जल सुनने से रोका, ज़बरदस्ती सुनाये लक्खा के भजन

21, Nov 2017 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. मेट्रो में एक युवक के साथ ज़बरदस्ती करने का संगीतमय मामला सामने आया है। मधुर मल्हार नामक यह युवक कल शाम मेट्रो में अपने मोबाइल पर ग़ुलाम अली की ग़जल सुन रहा था, तभी कुछ लोगों ने उसे रोक दिया और उसे ज़बरदस्ती लखबीर सिंह लक्खा के भजन सुनाये। पुलिस ने 5 अज्ञात युवकों के ख़िलाफ़ मामला दर्ज़ कर लिया है और थाने में बैठकर उन्हें ढूंढ रही है।

delhi-metro-ghazal
घटना के समय राजीव चौक स्टेशन पर उमड़ी भीड़

घटना के समय मल्हार के साथ सफ़र कर रहे उसके दोस्त विवेक ने बताया कि “मल्हार अपने मोबाइल पे ग़ुलाम अली की ग़जल ‘चुपके चुपके रात दिन आँसू बहाना’ सुन रहा था। उस बेचारे को क्या पता था कि थोड़ी देर बाद उसे ख़ुद आँसू बहाने पड़ेंगे!” -वो ‘च्च च्च’ करते हुए बोला।

“एक्चुअली, जब वो अपने मोबाइल में ग़ज़ल सलेक्ट कर रहा था, तो बराबर में खड़े एक लौंडे ने देख लिया। उसने मल्हार की लीड का राइट साइड वाला आला निकाल के अपने काम में लगाया और लगाते ही चिल्लाया- “ये देखो! ये गद्दार क्या सुन रहा है!” हल्ला सुनते ही वहाँ भीड़ जमा हो गयी और कुछ लोग मल्हार से धींगामुश्ती करने लगे।”

“मैंने बीच-बचाव किया तो वे लोग मुझ पे चढ़ गये- ‘तू भी दिखा साले, तू क्या सुन रहा है?’ फॉर्चुनेटली मैं उस टाइम अरिजीत का सॉन्ग सुन रहा था, इसलिये उन्होंने मुझे तो छोड़ दिया लेकिन मल्हार की गिरेबान पकड़कर पूछा- ‘हमारे देश में सिंगरों की कमी है क्या? जो तुझे उन पाकिस्तानियों को सुनने की ज़रूरत पड़ गयी!’ यह सुनकर उसका एक साथी उसे करेक्ट करते हुए बोला- ‘ज़रूरत नहीं भाई, आवश्यकता! ज़रूरत तो उड़दू का वर्ड है!”

“हाँ, आवश्यकता! तो बता, तुझे ऐसी क्या ‘आवश्यकता’ पड़ गयी गुलाम अली का गाना सुनने की? बोल!” तो मल्हार सहमते हुए बोला ‘मुझे पसंद है इसलिये…!’ “अच्छा! तेरी पसंद देश से भी बड़ी हो गयी! देशभक्ति के गाने सुनने में तुम्हारी जान निकल जाती है! हैं?” यह कहकर उसने अपनी लीड मल्हार के कानों में ठूँस दी और एक घंटे तक उसे लक्खा के भजन सुनाये। -यह कहकर वो मोबाइल पर गाने सुनने लगा।

उधर, ‘विशिष्ट हिंदू पूज्य परिषद’ (विहिप्प) समेत अनेक संगठनों ने मल्हार के इस कृत्य को राष्ट्रविरोधी हरकत बताया है। विहिप्प के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष प्रवीण रोकड़िया ने कहा है कि “वहाँ बॉर्डर पे पाकिस्तान हमारे जवानों पे हमले कर रहा है और ये लोग पाकिस्तानी गाने सुन रहे हैं। ऐसे लोगों के तो कान काट लेने चाहिये!”



ऐसी अन्य ख़बरें