Sunday, 19th November, 2017

चलते चलते

गुरमीत राम रहीम के भक्तों से निपटने के लिये सरकार ने चीन बॉर्डर से भी सेना बुलाई

24, Aug 2017 By बगुला भगत

चंडीगढ़. डॉ. संत बाबा गुरमीत राम रहीम सिंह जी इंसाँ (DSBGRRSJI) के भक्तों और समर्थकों से निपटने के लिये केंद्र सरकार ने बॉर्डर से सेना को बुलाने का फ़ैसला किया है। सूत्रों के मुताबिक, बाबा जी के 10 लाखों समर्थकों से निपटने के लिये पुलिस और अर्धसैनिक बल कम पड़ रहे थे, इसलिये सरकार को मजबूरी में यह जोख़िम भरा फ़ैसला लेना पड़ा है।

gurmeet-army-panchkula
पंचकूला रवाना होते सेना के जवान

आज सुबह प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में कैबिनेट की आपात बैठक हुई, जिसमें यह फ़ैसला किया गया। बैठक से निकलने के बाद गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने मीडिया से बात की। उन्होंने कहा कि “मेरी कड़ी निंदा से आतंकवादी तो डर जाते हैं लेकिन इन भक्तों के सामने मेरी निंदा भी फेल है। इसलिये मजबूरी में मुझे बॉर्डर से सेना बुलानी पड़ रही है।”

“वैसे मैं दुआ कर रहा हूँ कि बाबाजी रेप केस से बाइज़्ज़त बरी हो जायें। अगर ऐसा नहीं हुआ तो साँप भी नहीं मरेगा और मेरी लाठी भी टूट जाएगी।” -राजनाथ जी ने सर और माथे से पसीना पोंछते हुए कहा।

“लेकिन बॉर्डर से सेना बुलाने के बाद अगर चीन ने हमारे इलाक़े पर क़ब्ज़ा कर लिया तो?” इस सवाल पर राजनाथ जी ने कहा कि “चीन से तो बाद में कुछ ले-देकर समझौता कर लेंगे, ये भक्त तो किसी समझौते से भी नहीं मानते!”

“प्रधानमंत्री मोदी की तो सब भक्त सुनते हैं, अगर वो अपील करें तो क्या वे तब भी नहीं मानेंगे?” इस पर राजनाथ जी हँसते हुए बोले, “आप भक्तों को जानते नहीं हो शायद!” यह कहकर वो हरियाणा में इंटरनेट बंद कराने के लिये रवाना हो गये।

इस बीच, जिस टैंक को जेएनयू कैंपस में रखा जाना था, उसे भी सरकार ने पंचकूला की ओर रवाना कर दिया है। सरकार का कहना है कि जेएनयू के छात्रों को तो देशभक्ति बाद में सिखा लेंगे, पहले इन भक्तों को तो सिखा लें!



ऐसी अन्य ख़बरें