Friday, 20th October, 2017

चलते चलते

पानी पूरी देख सावन सोमवार का व्रत भूली युवती,अब नहीं मिलेगा कोई भी वर

01, Aug 2016 By banneditqueen

पटना. के.वी. कॉलेज में पढ़ने वाली सुषमा मे बचपन से ही मनचाहा वर पाने के सपने सजा रखे थे। बचपन में जब उसने अपनी चचेरी बहन को व्रत रखते हुए देखा तभी से उसने भी व्रत रखना शुरू कर दिया। उसने एक किताब में पूरी लिस्ट भी बनाई जिसमें वो सभी गुण लिखे थे जो उसे अपने पति में चाहिए थे। तकरीबन 17 पन्नों में ये लिखा था कि उसे अपने पति में क्या गुण चाहिए और 20 पन्नों में ये लिखा था कि उसे पति में कौनसे गुण नहीं चाहिए। पूरी श्रद्धा से वो सोमवार के व्रत रखती थी| यही नही हर एक सोमवार बिना नागा किये सुबह 5 बजे उठकर नहा धोकर मंदिर जाना तो एक नियम सा था।

pani puri
इसी पानी पुरी को देख ललचाई सुषमा

मनचाहा वर पाने की इच्छा इतनी तीव्र थी कि व्रत के दौरान वो फलाहार तक नहीं खाती थी। पर कल अचानक उसकी ये तपस्या भंग हो गई। शाम को सुष्मा की ज़ोर जोर से रोने की आवाज़ आ रही थी। कई घंटों रोने के बाद सुषमा ने सुबकते हुए बताया कि ” दोपहर में रानी ने उछलते हुए बताया कि बाहर पानी पूरी वाले का ठेला खड़ा है बहुत ही चटपटी पानी पूरी है जल्दी जाकर खा लो खतम ही होने वाली है, पानी पुरी का नाम सुनकर आव देखा न ताव हम तो पानी पूरी पे लपक पडे़, ऊपर से गरम गरम चाट वाले छोले पानी पुरी में हों तो उसका मज़ा ही अलग होता है। बस 5 पानी पुरी चटकारे लेकर गटकी ही थी कि शिवजी प्रकट हो गए और बोले के मैंने व्रत तोड़ने का दुस्साहस किया अब मैं जिंदगी भर कुँवारी रहूँगी।” इतना बोलते ही वो अपनी माँ का पल्लू पकड़कर दहाड़े मार कर रोने लगी।



ऐसी अन्य ख़बरें