Saturday, 23rd September, 2017

चलते चलते

गौरी लंकेश केस को RSS-BJP से ना जोड़ पाने पर पत्रकार ने पैनलिस्ट को डिबेट से बाहर निकाला

07, Sep 2017 By banneditqueen

दिल्ली. परसो हुई पत्रकार गौरी लंकेश हत्याकांड ने पूरे भारत को हिला कर रख दिया। हत्या की खबर फैलते ही सभी पत्रकारों ने CID की रफ़्तार से केस इस आधार पर हल कर दिया कि गौरी हिन्दू विरोधी थी तो उनकी हत्या बीजेपी या राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की साज़िश है। पहले भी कई पत्रकारों की हत्या हुई है, बिहार, उत्तर प्रदेश जैसे प्रदेशों में पर हिन्दू विरोधी न होने के कारण मीडिया ने उनकी मौत पर शोक नहीं जताया।

ndtv”कौन जात हो” फेम कविश कुमार के शो पर कल कई पैनलिस्टों को बुलाया गया। सभी पैनलिस्ट बारी बारी मोदी जी की गुंडई और भारत में बढ़ती असहिष्णुता के बारे में बात कर रहे थे। कविश जी ने एक पैनलिस्ट जो कि मोदी जी का इस्तीफ़ा मांग रहे थे उन्हें लगभग दस मिनट तक बोलने दिया। तभी एक पैनलिस्ट ने कहा ”गौरी लंकेश कर्णाटक में चल रहे भ्रष्टाचार पर कोई खुलासा करने वाली थी, इसीलिए उनकी हत्या कर दी गयी।”

इतने में ही कविश ने उनका माइक बंद कर दिया और उन्हें चर्चा छोड़कर जाने के लिए कहा। कविश ने कहा ”यूं तो मैं अभिव्यक्ति की आज़ादी का सम्मान करता हूँ पर जो भी कोई हमारी विचारधारा के खिलाफ बोलेगा उसे इस मंच पर बोलने की  आज़ादी नहीं है। ऐसी ही विचारधारा हिंदूवादी भी रखते हैं, उनके खिलाफ बोलने वालो की हत्या कर दी जाएगी।”



ऐसी अन्य ख़बरें