Saturday, 23rd September, 2017

चलते चलते

फोर्ब्स ने कहा- 'भारत में स्कूल वाले लेते हैं सबसे ज्यादा घूस', सुनकर ट्रैफिक हवलदार भड़के

03, Sep 2017 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. अमेरिकन मैग्जीन फोर्ब्स ने दावा किया है कि भारत के लोग सबसे ज्यादा घूस देते हैं। मैग्जीन का कहना है कि घूस देने वालों की लिस्ट में भारत एशिया में पहले नंबर पर है। वैसे तो इस सर्वे में कोई नयी बात नहीं है, लेकिन अगर समय-समय पर ऐसे सर्वे होते रहें तो लोगों को तसल्ली हो जाती है कि कहीं पर तो हम नंबर वन हैं। हालांकि, इस लिस्ट के एक दावे पर विवाद हो गया है।

TrafficPolice
“आजा बेटा आजा, चल साइड में आ जा!”

दरअसल, फोर्ब्स ने इसी सर्वे में ये दावा किया है कि भारत के लोग सबसे ज्यादा घूस स्कूलों में देते हैं। बस, यही बात लोगों को हजम नहीं हो रही। माना कि स्कूलों में घूस चलती है, लेकिन देश की पुलिस और उस पर भी ख़ास तौर पर ट्रैफिक पुलिस की मेहनत को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता। सर्वे में ना पुलिस थाना नंबर वन पर है, और ना ही रोड ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट!

“मुझे भी पता नहीं था, ऐसा कोई सर्वे निकला है करके। अभी पटवर्धन साब ने बताया मेरे को! मैंने तो सुनते ही कह दिया था कि ये सर्वे झूठा है, हमसे कोई आगे जा ही नहीं सकता! लेकिन पटवर्धन साब बोले कि, ‘नहीं यार! आजकल स्कूल वाले पढ़ाने के अलावा बाकी सब काम करते हैं, तो हमें भी यकीन नहीं हुआ! सोचा था कि कम से कम इस तरह के सर्वे में तो पहले नंबर पर आएँगे, लेकिन यहाँ भी स्कूल वालों ने टॉप कर दिया!” -ट्रैफिक पर तैनात एक हवलदार ने बताया।

अब ट्रैफिक पुलिस असोसिएशन ने फोर्ब्स को धमकी दी है कि एक महीने के भीतर अच्छे से एक नया सर्वे करो, और हमें पहले नंबर पर दिखाओ, नहीं तो अदालत के चक्कर काटने के लिए तैयार रहो। इस बारे में फोर्ब्स ने अभी तक कोई जवाब नहीं दिया है।

कई एक्सपर्ट्स भी इस सर्वे से नाराज़ बताए जा रहे हैं। दिल्ली यूनिवर्सिटी में समाजशास्त्र पढ़ाने वाले प्रोफेसर जुगलकिशोर शर्मा ने बताया कि, “देखिए! इन अमेरिका वालों को इंडिया के बारे में कुछ पता नहीं होता है! मैगजीन की सेल बढ़ाने के लिए कुछ भी लिखकर छाप देते हैं! अब आप इसी सर्वे को ले लीजिए! ना पुलिस थाने का नाम है, ना ट्रैफिक वालों का, जबकि इसे टॉप-3 में होना चाहिए। अब बताओ! कौन यकीन करेगा इस सर्वे पर! सर्वे करने में और भेड़-बकरी चराने में कुछ अंतर होता है कि नहीं!” -प्रोफेसर साब ने रुमाल से अपना मुंह पोछते हुए कहा।



ऐसी अन्य ख़बरें