Wednesday, 29th March, 2017
चलते चलते

कुत्ता समुदाय ने अपनाया 'Go Green', अब से नहीं दौड़ेंगे CNG गाडियों के पीछे

01, Jan 2017 By Pagla Ghoda

वर्सोवा बीच, मुम्बई. मल्टीनेशनल एसोसिएशन फॉर डॉग एक्टिविटीज (मैदा) ने नये साल पर ये फैसला लिया है कि अब से कुकुर समुदाय का कोई भी इज़्ज़तदार मेंबर CNG या इलेक्ट्रिक गाड़ियों के पीछे नहीं दौड़ेगा। हालाँकि बाकी सभी प्रकार के वाहनों पर भौंकना और उन्हें दौड़ाना बदस्तूर जारी रहेगा। गत शाम पौने सात बजे वर्सोबा बीच पर हुई एक प्रेस वार्ता के दौरान रिलीज़ किये गए प्रेस वक्तव्य में मैदा के प्रेजिडेंट श्री भोंकेंद्र  कटकटिया ने ये घोषणा की।

Dog
ड्राइवर से पॉल्यूशन सर्टिफिकेट दिखाने को कहते भौंकेंद्र जी

श्री भोंकेंद्र जी कुकुर समुदाय के काफी वरिष्ठ लीडर हैं और कई वर्षों से कुकुर हितों के लिए लड़ते आये हैं। उन्होंने इस विषय पर और जानकारी दी, उन्होंने कहा, “देखा जाए तो हमारा समुदाय मनुष्यों से ज़्यादा चिंतित है पर्यावरण के लिए। चूंकि हमारे समुदाय के कई जीव अभी भी प्राकृतिक हैबिटैट में बसते हैं। इसी लिए CNG जैसे पर्यावरण प्रेमी कदम को हमने हमेशा ही प्रोत्साहन दिया है। परंतु हमारे समाज में ये चर्चा बहुत समय से गरम थी कि हमने इस CNG और इलेक्ट्रिक कार वाले मनुष्यों के इस कदम में क्या योगदान किया है? तो देखिये आज हमारे समाज ने जो कानून पारित किया है उसके तहत कोई भी कुकुर, भेड़िया, या हमारी प्रजाति का कोई भी वंशज अब CNG और इलेक्ट्रिक गाड़ियों के पीछे नहीं दौड़ेगा, ना ही उन पर भोंकेगा।”

पेडिग्री से बनी चॉकलेट चबाते हुए भोंकेंद्र आगे बोले, “हाँ, लेकिन यदि कोई वाहन कुकुर समुदाय के किसी जीव की पूँछ पर से निकल जाएगा तो उस जीव के व्यवहार की ज़िम्मेदारी हमारी नहीं होगी। चूंकि वो व्यवहार रिफ्लेक्स एक्शन से प्रेरित होगा। मोटा-मोटा कहा जाए तो अगर हमारे समुदाय के किसी भी जीव को उकसाया नहीं गया तो वे इस नियम का पालन अवश्य करेंगे और जो नहीं करेंगे उनकी तो फिर खैर नहीं क्योंकि हमारा नेटवर्क तो हर गली में है। इसके लिए देश की हर गली के एक कुत्ते को कंप्लायंस कप्तान भी बनाया जायेगा जो बाकी सब पे नज़र रखेगा। हमारे ये कानून सभी पिन-कोड्स में लागू नहीं हो पाएंगे क्योंकि हमारे पास अभी स्टाफ की काफी कमी है, जिनकी भर्तियां अभी चालू हैं। जिन पिन-कोड्स में ये लागू होगा, उनकी लिस्ट हमारे इस प्रेस वक्तव्य के अपेंडिक्स बी में उपलब्ध है।”

इसके तुरंत बाद जब भोंकेंद्र जी ने सवाल लेने शुरू किये तो मामला काफी गरम हो गया। उनसे जब नोटबंदी से जुड़े सवाल पूछे गए तो उन्होंने टिप्पणी करने से साफ़ इनकार कर दिया। एक पत्रकार के बार-बार तीखे सवाल पूछने पर पास बैठे दो कुत्तों ने उसे ज़ोर से काट लिया और उसे इंजेक्शन के लिए तुरंत पास के हस्पताल ले जाया गया। उसके बाद किसी भी पत्रकार ने कोई सवाल नहीं किया। अंत में सभी कुकुर जीवों ने एक ज़ोरदार हुंकार भरी, जो संकेत था कि अब प्रेस कांफ्रेंस ख़त्म की जायेगी।



ऐसी अन्य ख़बरें