Tuesday, 21st February, 2017
चलते चलते

दिल्ली मेट्रो में हिंदी की किताब पढ़ने के आरोप में युवक गिरफ़्तार

14, Sep 2014 By बगुला भगत

नई दिल्ली. आज दोपहर दिल्ली मेट्रो में एक संदिग्ध युवक को गिरफ़्तार कर लिया गया। युवक पर मेट्रो में हिंदी की किताब पढ़ने का गंभीर आरोप है। आरोपी युवक के क़ब्ज़े से हिंदी में बनी और भी बहुत सारी विस्फोटक सामग्री बरामद की गयी है।

Delhi Metro
कहीं भी कोई हिंदी किताब दिखे तो पुलिस को सूचित करें।

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के निदेशक पीके सिंह ने बताया कि, “पकड़े गए युवक का नाम सतेंद्र श्रीवास्तव है और उसने अपना गुनाह कबूल कर लिया है। उसने मान लिया है कि वो इससे पहले डीटीसी बस और राजधानी एक्सप्रेस में भी हिंदी से जुड़ी कई वारदातों को अंजाम दे चुका है।” श्री सिंह ने भरोसा जताया कि सतेंद्र के बाक़ी साथियों को भी जल्द ही गिरफ़्तार कर लिया जाएगा।

प्रत्यक्षदर्शियों ने फ़ेकिंग न्यूज़ को बताया कि संदिग्ध युवक राजीव चौक स्टेशन से मेट्रो में सवार हुआ था और मेट्रो में बैठते ही उसने अपने बैग से हिंदी की किताब निकाल ली। किताब को देखते ही यात्रियों में दहशत फैल गई और सब अपनी-अपनी जान बचाने के लिए इधर-उधर भागने लगे। अगले स्टेशन पर पहुंचते ही सीआईएसएफ़ के जवानों ने युवक को पकड़ लिया और यात्रियों को हिंदी के आतंक से मुक्त कराया।

इस भयानक हादसे का शिकार हुए यात्री अभी तक सदमे से नहीं उबर पाये हैं। डर के मारे अभी तक कांप रहे अभिजीत ने फ़ेकिंग न्यूज़ को बताया कि, “मुझे अभी भी अपनी आंखों पर भरोसा नहीं हो रहा! कितना ख़तरनाक था वो! मेट्रो जैसी जगह पर हिंदी पढ़ते हुए भी उस बंदे के चेहरे पर कोई शर्म या घबराहट नहीं थी। इट्स रियली डेंजरस!”

खुफ़िया एजेंसियां इसे मेट्रो प्रबंधन के सुरक्षा तंत्र में भारी चूक मान रही हैं। गृह मंत्रालय ने मेट्रो प्रबंधन से पूछा है कि, “इतनी चाक-चौबंद व्यवस्था होने के बाद भी असामाजिक तत्व मेट्रो में हिंदी की सामग्री ले जाने में कैसे कामयाब हो रहे हैं?” इस वारदात के बाद मंत्रालय ने मेट्रो और एयरपोर्ट जैसी सभी संवेदनशील जगहों पर चौकसी बढ़ा दी है।



ऐसी अन्य ख़बरें