Friday, 22nd September, 2017

चलते चलते

कश्मीर में फेंके गए पत्थरों से ही बनाया जाएगा सिन्धु नदी पर डैम: राजनाथ सिंह

28, Sep 2016 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली/कश्मीर. उड़ी में हुए आतंकवादी हमले के बाद केंद्र सरकार सिन्धु नदी के पानी को पाकिस्तान जाने से रोकने का प्लान बना रही है। ख़ुफ़िया सूत्रों से पता चला है कि सिन्धु नदी पर एक बड़ा डैम बनाकर पानी को आगे जाने से रोका जाएगा। सबसे महत्वपूर्ण बात, इस डैम को बनाने के लिए उन्हीं पत्थरों का इस्तेमाल किया जाएगा जिन्हें कश्मीर में होने वाले प्रदर्शनों के दौरान फेंका गया था। विशेषज्ञों का मानना है कि इन पत्थरों का सरकार के पास इतना बड़ा भण्डार है कि डैम बनाने के बाद भी कई ट्रक पत्थर बच जाएँगे।

stones
इन्हीं पत्थरों से बनेगा सिंधु नदी पर विशालकाय डैम

“हम तो इन पत्थरों को बड़े बेमन से उठाकर रखते थे। हमें क्या पता था कि ये हमारे लिये इतने काम की चीज़ हैं! -आर्मी के एक बड़े अफ़सर ने एक बड़े से पत्थर को उठाकर दिखाते हुए कहा। “हम पत्थर फेंकने वाले सभी लोगों का शुक्रिया अदा करते हैं कि उन्होंने पत्थरबाज़ी में कोई कंजूसी नहीं की। उनकी इस मेहनत की बदौलत ही सिन्धु नदी पर ये डैम बन पायेगा। हमें इसके लिये अपनी ओर से सिर्फ सीमेंट और रेत का जुगाड़ करना पड़ेगा।” -अफ़सर ने मुस्कुराते हुए कहा।

बाद में, इस सम्बन्ध में विस्तार से बताते हुए गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि “हमारे इंजीनियरों ने पत्थरों का ठोक-बजाकर निरीक्षण कर लिया है। उन्होंने इन कश्मीरी पत्थरों को ताजमहल में लगे संगमरमर से भी अच्छी क्वालिटी का बताया है। हमें तो डर लग रहा है कहीं ये डैम ताजमहल से भी सुन्दर ना बन जाए!”

उधर, चेहरे पर रुमाल बांधे एक पत्थरबाज़ युवक ने इस ख़बर पर निराशा जताते हुए कहा कि “हम आगे से पत्थर फेंकेंगे ही नहीं! अब हम पत्थर की जगह ईंट या लोहे की चीज़ें फेंकेंगे!” तो बगल में खड़ा दूसरा पत्थरबाज़ बोला- “बेवकूफ! ईंट और लोहे से तो और भी मजबूत डैम बनेगा। तेरे दिमाग पे भी पत्थर पड़ गये हैं क्या?” “फिर तो कुछ हटके सोचना पड़ेगा!” -कहकर युवक गहरी सोच में डूब गया।



ऐसी अन्य ख़बरें