Friday, 24th November, 2017

चलते चलते

दिल्ली में भीड़ ने चोर समझकर युवक को धुना, स्मॉग से बचने के लिए मुँह पर बाँधा था कपड़ा

10, Nov 2017 By Guest Patrakar

नयी दिल्ली. अगर आपको लगता है कि दिल्ली की धुंध के कारण केवल आपकी साँस को ही नुक़सान होगा तो एक बार फिर से सोच लीजिए। ऐसी ही ग़लतफ़हमी पाले हुए विभोर अवस्थी कल दिल्ली के स्मॉग की वजह से भीड़ से पिट गए, वो भी सिर्फ़ मुँह पर कपड़ा बाँधने की वजह से!

mask-smog-delhi
मास्क से चेहरा ढंके विभोर अवस्थी

दरअसल हुआ यूँ कि विभोर बुधवार को 11 बजे के क़रीब ICICI बैंक की रोहिणी ब्रांच पहुँचे। स्मॉग और प्रदूषण के कारण उन्होंने मुँह पर कपड़ा और गले में मफ़लर बाँध रखा था। जैसे ही उन्होंने कैश काउंटर पर “मुझे रुपए चाहिए” बोला, ना जाने क्यूँ पास में खड़े सिक्योरिटी गार्ड ने उसे दबोच लिया, साथ ही अन्य लोगों ने भी उनकी जमकर पिटाई कर दी।

पीड़ित विभोर फ़ेकिंग न्यूज़ से बात करने की हालत में तो नहीं थे लेकिन फिर भी उन्होंने थोड़ी बहुत हिम्मत जुटाई और हम से बात की। अपनी आप-बीती में विभोर ने बताया “मैं इस स्मॉग की वजह से मुँह पे कपड़ा बाँध कर गया था लेकिन उन लोगों ने मुझे चोर समझ कर पीट दिया। कोई कह रहा था कि ‘तुमने मफ़लर बांधा है इसलिए केजरीवाल समझ के पीट रहे हैं’ अब सोच रहा हूँ कि भगवा कपड़े पहन कर बैंक जाऊँ लेकिन फिर हो सकता है वे लोग मुझे हिंदू आतंकवादी समझ कर पुलिस के हवाले ना कर दें।”

हमने इस बारे में सिक्योरिटी गार्ड मंगी राम से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि “कोई भी शख़्स मुँह पे कपड़ा बाँध कर और गले में मफ़लर डाल के कैश की पूछेगा तो आप क्या उसे पद्म भूषण देंगे?” इस पर बैंक मैनेजर श्री रवि कुमार ने भी गार्ड मंगी का साथ दिया। उन्होंने कहा, “मंगी ने जो किया, सही किया। दरअसल जब से केजरीवाल जी मुख्यमंत्री बने हैं, तब से हम हर मफ़लर पहन कर पैसे माँगने वाले को धो देते हैं। हम मंगी की सैलरी बढ़ाने की सोच रहे हैं।”

प्रदूषण के चलते किसी को पीट देने की यह वारदात पहली नहीं है। अमन कुमार, जो दिल्ली यूनिवर्सिटी का छात्र है, को भी सिर्फ़ इसलिए पीट दिया गया, क्योंकि जब उसके दोस्तों ने पूछा कि ‘क्या चल रहा है?’ तो अमन ने कह दिया- “फ़ॉग!” अब अमन की हालत ख़राब है और फ़िलहाल उसे दिल्ली के आस-पास ना आने की सलाह दी गयी है।



ऐसी अन्य ख़बरें