Saturday, 18th November, 2017

चलते चलते

लखनऊ में समोसे वाले ने रोक दी समोसे की सप्लाई, यूपी सरकार के मंत्री/अफसर भड़के

13, Aug 2017 By Ritesh Sinha

लखनऊ. गोरखपुर के अस्पताल में आक्सीजन की सप्लाई रुकने से तीस से ज्यादा बच्चों की मौत हो चुकी है। लेकिन इससे भी एक बड़ा हादसा आज लखनऊ में हो गया, जब एक समोसा बेचने वाले शख्स ने उधारी में समोसा देने से इनकार कर दिया। धनीराम चौरसिया, यूपी के मंत्री और अफसरों के लिए नाश्ता सप्लाई किया करता है। लेकिन आज उसने अचानक सचिवालय में चाय-समोसे की सप्लाई रोक दी, जिससे मंत्री और अफसर आग बबूला हो उठे। दरअसल, वह समोसे का पैसा ना मिलने से परेशान था, इसलिए उसने उधारी देने से मना कर दिया। सप्लाई रुकते ही नेता और अफसरों में हडकंप मच गया। माना जा रहा है कि बच्चों की मौत पर अब तक तो कार्रवाई नहीं हुई है, लेकिन इस समोसे वाले के पूरे खानदान की चमड़ी उधेड़ दी जाएगी।

Yogiji
समोसे वाले को बुलाते मुख्यमंत्री योगी जी

यूपी के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बताया कि “धनीराम की हिम्मत कैसे हुई? समोसे की सप्लाई रोकने की। बिना नाश्ता-पानी के हम काम कैसे करेंगे? तीन काम ही तो आता है हमें, चुनाव जीतना, हर हफ्ते दिल्ली जाना और उधारी में समोसे खाना। और फिर इसने तो हमसे नाश्ता ही छीन लिया! इस धनीराम के बच्चे की अब खैर नहीं है!” -कहते हुए मंत्री जी ने सामने रखा पेपर-वेट पटक दिया। “लेकिन गोरखपुर में आक्सीजन की कमी से बच्चे मर रहे हैं? उसका क्या हुआ?” -ऐसा पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि, “देखिए गोरखपुर में आक्सीजन की कोई कमी नहीं है! पिछले महीने ही हमने दस हज़ार पेड़ लगवाए थे, तो फिर आक्सीजन की कमी कैसे हो सकती है!”

“अब तक क्या कार्रवाई की है आपकी सरकार ने?” ऐसा पूछे जाने पर मंत्री जी ने बताया कि “हमने अपने सभी मंत्रियों का दिल्ली दौरा रद्द कर दिया है, आंकड़े जुटाने वाले आंकड़े जुटाने में लग गए हैं। योगी जी ने खुद पहल करते हुए अगले सात दिनों तक ट्वीटर यूज ना करने की कसम खाई है! और क्या चाहिए आपको? इतना कठोर कदम उठाना पिछली सरकार के बस की बात नहीं है! एक मजबूत सरकार ही ऐसा कर सकती है!”

उधर, अस्पताल के प्रिंसिपल ने बच्चों की मौत पर सफाई देते हुए कहा है कि, “उन छोटे-मोटे कर्मचारियों के नाम फाइनल किए जा रहे हैं, जिन्हें मैं सस्पेंड करने वाला हूँ! किसी को नहीं बख्शा जाएगा! चाहे वो अस्पताल का ड्रेसर या वार्डबॉय ही क्यों ना हो? चपरासी तक को नहीं छोडूंगा! ऐसी लापरवाही बर्दाश्त नहीं करूँगा मैं!” -वे ऐसा कह ही रहे थे कि यह खबर आई कि वे खुद सस्पेंड हो चुके हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें