Monday, 20th November, 2017

चलते चलते

महिलाओं को केश लेस बनाने के लिए काटी जा रही चोटियां - मोदीजी

14, Aug 2017 By ak

एजेंसी. देशभर में चोटी कटवा मामले ने धूम मचाई हुई है। यह मामला देश में ऐसा फैला कि रक्षाबन्धन के पर्व पर पूरे पूरे परिवार में सिर्फ यही सवाल छाया रहा कि आखिर ये चोटियां काट कौन रहा है?? यह सवाल “कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा??” से भी अधिक पूछा जाने लगा है। हालाँकि लोगों के हाथ बाहुबली 2 में कुछ ख़ास नही लगा। परन्तु इस मामले में बहुत कुछ मिलने की उम्मीद जगी है। क्योंकि ताजा बयान में प्रधानमन्त्री मोदी ने कहा है कि महिलाओं की चोटियां उन्हें कैशलेस बनाने के लिए काटी जा रही हैं।

braid-cuttingजी हाँ, यह सब शुरू हुआ फेकिंग न्यूज़ के स्टिंग ऑपरेशन से, जिसमें यह तथ्य सामने आया है कि चोटियां कोई ओर नही हमारा ही पड़ोसी मुल्क कटवा रहा है। भारत से जारी सीमा विवाद के बीच चीनी राष्ट्रपति ने भारत से बदला लेने का अलग ही तरीका निकाला है। शी झिनपिंग ने अपने देश के वैज्ञानिकों से कहकर ऐसी गैस तैयार करवाई है जो हवा में घुलकर पहले महिलाओं को बेहोश करती है और फिर बालों पर कुछ ऐसा असर डालती है कि बाल कटकर अलग हो जाते हैं। जब महिला उठती है तो उसे चोटी कटी हुई मिलती है। चीन ने यह गैस भारत में छुड़वा दी है। अन्य एक्सपर्ट तो यह भी कह रहे हैं कि झिनपिंग ने एक विशेष प्रकार के कीड़े तैयार करवाये हैं जो चोटी काटकर छिप जाते हैं। ये कीड़े चीन ने भारत भेज दिए हैं। इसलिए इस तरह की अफवाहों के बीच प्रधानमन्त्री जी का बयान आना तय था।

इन अफवाहों को झूठ करार देते हुए और देश की सुरक्षा को सुनिश्चित करते हुए प्रधानमन्त्री मोदीजी ने कहा ” मेरे प्यारे भाइयों और बहनों, मेरे मित्र झिंपिंगजी ऐसा कुछ नही कर सकते। चोटियां तो महिलाओं को केश लेस बनाने के लिए काटी जा रही है। मित्रों वर्षभर पहले जब नोटबन्दी हुई थी तो उसके बाद केश लेस पुरुषों की संख्या में तो वृद्धि हुई थी परन्तु महिलाओं ने उस कैशलेस योजना में भाग नही लिया। इसलिए भाइयों अब महिलाओं के लिए यह कैशलेस योजना अलग से चलाई गयी है। जिसकी शुरुआत राजस्थान से की गयी। अब देश के भिन्न भिन्न राज्यों से कई चोटी कटवे इस योजना में वालन्टियर के तौर पर काम कर रहे है। इसलिए मित्रों में देशवासियों को आश्वस्त करना चाहूँगा कि घबराने की कोई बात नही है। ” हालाँकि विपक्ष के चोटी एक्सपर्ट्स व गहन चोटी चिंतकों ने सवाल उठाया है कि यदि ऐसा है तो चोटी पार्लर में क्यों नही काटी जा रही ??



ऐसी अन्य ख़बरें