Wednesday, 22nd November, 2017

चलते चलते

शराब बंद की है तो ब्यूटी पार्लर भी बंद करो: बिहार युवा मोर्चा की नीतीश से माँग

11, Apr 2017 By Dharmendra Kumar

पटना. बिहार ने हाल ही में शराब बंदी की पहली सालगिरह मनाई है। बिहार सरकार ने पूरे राज्य में मानव श्रृंखलाओं का निर्माण कर अपने फैसले को सही ठहराने की पूरी कोशिश की है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी को इस बैन से लगभग आधी आबादी का समर्थन बैठे-बिठाये ही हासिल हो गया है। महिलाएं हर जगह, चाहे वे शहर में हों या गाँव में, इस हद तक खुश लग रहीं है कि आदमी बेचारे जल-भुन रहे हैं। उन्होंने कई बार महिलाओं को यह बताना चाहा कि दूसरों के दुःख पर इतना खुश नहीं होना चाहिये लेकिन इसका कोई असर महिलाओं पर पड़ता नहीं दिख रहा।

Bihar
ब्यूटी पार्लर्स के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करता बिहार युवा मोर्चा

थक-हार कर फुलवारी शरीफ, पटना के नौजवानों ने एकजुट होकर मुख्यमंत्री नीतीश के सामने अपनी मांगें रखने का मन बना लिया है। युवा मोर्चा के संचालक परमेस कुमार ने बताया कि “शराबबंदी का हम भी समर्थन करते हैं क्योंकि पिछले एक साल में हमने भी महसूस किया है कि हमारी भी कुछ ज़िम्मेदारी है और पापा के पैसों का दुरुपयोग करना ही जीवन का एकमात्र लक्ष्य नहीं है।” उन्होंने अपनी बात जारी रखी और अपनी उंगली हवा में लहराते हुआ कहा, “लेकिन यह क्या सही है कि लड़कियां हमारी इस मजबूरी का मज़ाक बनायें? सरकार का रवैया भी हमारे प्रति पूर्वाग्रह से ग्रसित है और वो हमारी मांग नहीं मान रही।”

जब परमेस जी से पूछा गया कि “आपकी मांगें क्या-क्या हैं?” तो उन्होंने कहा, “हमारी सबसे पहली मांग है कि समूचे बिहार के सभी ब्यूटी पार्लर्स बिना किसी विलम्ब के बंद कर दिये जायें।” परमेस जी की बगल में खड़े युवा वाहिनी के सह-संचालक प्रकाश यादव ने दलील दी कि “ब्यूटी पार्लर में भी तो पापा लोग का पैसा खर्च होता है। और खूबसूरती को देखकर भी तो लड़का लोग को नशा होता है। इसलिये नीतीस बाबू अगर फुल नशाबंदी करना चाहते हैं तो इन सब पार्लर को भी बंद कर देना चाहिये।”

प्रकाश बाबू ने जाते-जाते चेतावनी दी कि “अगर ऐसा नहीं हुआ तो फिर नीतीस बाबू एक बड़े विद्यार्थी आंदोलन के लिये तैयार रहें। हम लोग वैसे भी आजकल खाली हैं। पहले तो हमारे समूचे युवा दल का शाम का ‘प्रोग्राम’ एक इशारे में ही फिक्स हो जाता था, जबकि अब दोस्त लोग दो मिनट भी इकट्ठे बैठना नहीं चाहते।”



ऐसी अन्य ख़बरें