Saturday, 22nd July, 2017
चलते चलते

जेटली ने दी GST फेंककर मारने की धमकी, सिक्किम-अरुणाचल से पीछे हटा चीन

04, Jul 2017 By बगुला भगत

नयी दिल्ली/बीज़िंग. वित्त मंत्री-कम-रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने इस बार चीन को ऐसी धमकी दे दी है, जिससे पूरे चीन में दहशत फैल गयी है। जेटली ने आज दोपहर एक ब्रीफ़केस दिखाते हुए चीन को चेतावनी दी कि “चुपचाप अरुणाचल से पीछे हट जाओ, नहीं तो ऐसा जीएसटी फेंककर मारुँगा कि छठी का दूध याद आ जायेगा!”

Jaitley10
“ऐसा जीएसटी फेंककर मारुंगा कि नानी याद आ जाएगी”

उनकी इस धमकी के बाद चीन में हर तरफ़ उनके ब्रीफ़केस और जीएसटी की ही चर्चा है, लोग डर के मारे अपने घरों में दुबक गये हैं। चीन का पूरा मीडिया तभी से उनके उस धमकी वाले वीडियो को चला रहा है और बता रहा है कि “इंडिया ने जो नया बम बनाया है, वो इसी ब्रीफ़केस में रक्खा हुआ है।”

हालात की गंभीरता को देखते हुए राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने आनन-फानन में नेशनल सिक्योरिटी काउंसिल की मीटिंग बुलाई, जिसमें जेटली की धमकी पर चर्चा की गयी। शी ने अपने रक्षा मंत्री चांग वानकुआन से कहा कि “ये ‘जीएसटी’ कौन सा हथियार है, पता लगाओ! और ये ‘छठी का दूध’ कैसा होता है, ये भी पता लगाओ!”

वानकुआन ने सर झुकाते हुए कहा- “सर, मोदी ने चुपचाप कोई बहुत ही भयानक हथियार डेवलप कर लिया है शायद! हम सोच रहे थे कि वे लोग तो बीफ़ और गाय में ही उलझे पड़े हैं लेकिन ये उनकी चाल थी। वे चुपचाप इस बम को डेवलप कर रहे थे सर! मैंने इंडिया में अपने जासूसों से पता लगाने को कहा था कि ये कैसा हथियार है लेकिन कोई मुँह खोलने को तैयार ही नहीं है। कह रहे हैं कि हमें ख़ुद नहीं पता कि ये क्या आफ़त है!”

“भलाई इसी में है सर कि हम इंडिया की ज़मीन से अपने जवानों को वापस बुला लें और बिना शर्त जेटली से माफ़ी माँग लें। नहीं तो उसका कुछ पता नहीं, वो जीएसटी के साथ-साथ कोई ‘सेस मिसाइल’ ना फेंक कर मार दे!” -एक अधिकारी ने काँपते हुए कहा।

यह सुनते ही शी ने प्रधानमंत्री मोदी को इमरजेंसी कॉल लगाई, लेकिन उनकी बात नहीं हो पाई है क्योंकि मोदी जी इस वक़्त प्लेन में हैं और उनका मोबाइल फ़्लाइट मोड पर है। इस बीच, शी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से भी बीच-बचाव कराने की रिक्वेस्ट की है।



ऐसी अन्य ख़बरें