Monday, 16th January, 2017
चलते चलते

अल कायदा के अंडर ट्रायल कार्यकर्ता ओसामा की एक्स्ट्रा ज्यूडिशियल किलिंग करना गलत था: लिबरल

02, Nov 2016 By Pagla Ghoda

मुम्बई: ABCD टीवी नेटवर्क के जाने माने लिबरल पशुपति नाथ पंखुड़िया ने एक न्यूज़ चैनल डिबेट के दौरान ये घोषणा की के सन् 2011 में अल कायदा के मासूम“अंडर ट्रायल” कार्यकर्ता ओसामा की एक्स्ट्रा ज्यूडिशियल किलिंग करना अमेरिका की काफी बड़ी गलती थी। अपने पनेलिस्ट्स को पशुपति जी ने कहा, “ओबामा की मृत्यु का विडियो ध्यान से देखिये, क्या उसके पास हथियार थे? जी नहीं। निहत्था था वो अल कायदा का कार्यकर्ता। लेकिन कोई मुकदमा नहीं, कोई सुनवाई नहीं, उड़ा दिया गया उस बेचारे को और यही आजकल हमारे देश में भी हो रहा है।” कहते कहते पशुपति जी का गला भर आया।

ओसामा का समर्थन करते पत्रकार
ओसामा का समर्थन करते पत्रकार

जब एक पैनेलिस्ट ने पशुपति जी को ये याद दिलाया के ओसामा दरअसल एक आतंकवादी गुट का सरगना था तो पशुपति जी का चेहरा मारे क्रोध के लाल हो गया। उन्होंने अपने गुस्से को काबू में करते हुए कहा, “आतंकवादी मत कहो, अंडर ट्रायल कहो उसे। एक अंडर ट्रायल की बेहद ही बेदर्दी से जान ले ली गयी। एक मासूम को कानूनी प्रोसेस के परे सजा दी गयी, यानी कि एक्स्ट्रा ज्यूडिशियल हत्या करवा दी गयी। बेहद ही शर्मनाक है ये। हमने उस समय इसके विरुद्ध व्हाइट हाउस के सामने एक कैंडल मार्च करने का भी इंतज़ाम किया था, पर बारिश की वजह से हमें घर पे ही साइलेंट प्रोटेस्ट करना पड़ा।”

इस विषय पर अमेरिकी दूतावास की ओर से कोई टिप्पणी नहीं की गयी है पर पशुपति नाथ जी अभी भी अपने बयान पर अडिग हैं। उन्होंने तो एक कदम आगे बढ़ते हुए यहाँ तक कह दिया है कि अगर पाकिस्तानी आर्मी के कुछ कार्यकर्ता लश्कर-इ-तैयबा के कुछ मासूम कार्यकर्ताओं को भारत भेजने के लिए बॉर्डर पर कुछ “स्वागत भरे” फायर करें तो इंडियन आर्मी को चाहिए के धीरज से काम ले और जवाबी फायर न करें।



ऐसी अन्य ख़बरें