Thursday, 24th August, 2017

चलते चलते

बेटे ने मोबाइल छीनकर सिब्बल के हाथ में कबूतर पकड़ाया, कहा- "सैंकड़ों साल पुरानी परंपरा है"

17, May 2017 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मशहूर वकील कपिल सिब्बल द्वारा सुप्रीम कोर्ट में तीन तलाक़ पर दी गयी दलील अब उनके ही गले की हड्डी बन गयी है। उनके बेटे अमित सिब्बल ने रात उनके कमरे का एसी हटा दिया और उनके हाथ में बीजणा अर्थात हाथ का पंखा थमा दिया। कपिल जी ने जब इस हिमाकत की वजह पूछी तो अमित ने हाथ के पंखे को हमारी सैंकड़ों सालों की परंपरा बता दिया। इस बात पर सारी रात घर में महाभारत होती रही। उन्होंने जैसे-तैसे पंखा झलते हुए सारी रात काटी।

Kapil Sibal2
बेटे को मोबाइल लेकर जाता देखते सिब्बल जी

ख़ैर! सुबह जब वो नहा-धोकर अपनी पेशी पर कोर्ट जाने लगे तो छोटे बेटे अखिल ने उनके हाथ से मोबाइल छीन लिया और उनके हाथ में कबूतर पकड़ा दिया। कपिल चिल्लाये- “ये क्या बदतमीज़ी है!” “बदमतीज़ी नहीं डैड, परंपरा है…वो भी सैंकड़ों साल पुरानी!” -अखिल ने मुस्कुराते हुए कहा। “अब आपको जब भी किसी को कॉल करनी हो या कोई मेल भेजनी हो, तो इस कबूतर के हाथ पैर चिट्ठी भेजिये और अपना मैसेज पहुंचाइये, हैकिंग का भी डर नहीं!” -कहकर वो मोबाइल लेकर चला गया।

अपमान का घूंट पीकर कपिल चुपचाप अपनी गाड़ी स्टार्ट करने लगे तो अमित ने आकर चाबी छीन ली और हाथ में घोड़े की लगाम थमा दी। अब तो हद ही हो गयी! वो घोड़े में लात मारते हुए चिल्लाये- “तुम्हारी ये हिम्मत!” इस पर अमित उंगली में चाबी घुमाते हुए बोला “डैड, इंसान सैंकड़ों साल से घोड़े पर सवारी करता आया है और ये असंवैधानिक भी नहीं है।” कपिल पैर पटकते हुए बोले- “आई विल सी यू इन कोर्ट!”

और भुनभुनाते हुए पैदल ही कोर्ट की ओर चल पड़े और पहुंचते ही अपने बेटों के ख़िलाफ़ अवमानना याचिका दायर कर दी। बेशक़ वो छंटे हुए वकील हैं लेकिन फिर भी इस केस में फ़ैसला उनके हक़ में आने की उम्मीद कम ही है। क्योंकि बीजणा, कबूतर और घोड़ा हमारी सैंकड़ों साल पुरानी परंपराएं हैं और शायद सुप्रीम कोर्ट इस मामले में दखल नहीं देगा।



ऐसी अन्य ख़बरें