Thursday, 14th December, 2017

चलते चलते

बाबरी मस्जिद बनाने पहुँच गए आडवाणी और जोशी, तसले और गारे के साथ हिरासत में

06, Dec 2017 By बगुला भगत

अयोध्या. भारत की राजनीति आज अचानक पूरा 360 डिग्री घूम गयी। बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी को पता नहीं सुबह-सुबह क्या हुआ, वो बाबरी मस्जिद-रामजन्मभूमि वाली जगह पर पहुँच गये और ईंटें उठा-उठाकर रखने लगे। उनके साथ उनके पुराने साथी मुरली मनोहर जोशी और यशवंत सिन्हा भी थे। सिन्हा जी के क़ब्जे से गारे से भरा तसला और कन्नी भी बरामद हुए हैं। फिलहाल, पुलिस तीनों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

advani-joshi-babri-masjid
जोश में हाथ हिलाते आडवाणी और जोशी जी

इस घटना से अयोध्या और आस-पास के क्षेत्र में स्थिति तनावपूर्ण बन गयी है। शुरु में लोगों को लगा कि आडवाणी जी राम मंदिर बनाने आये हैं लेकिन जब सच्चाई मालूम हुई तो लोग हक्के-बक्के रह गये। हर कोई यही कह रहा था कि ‘आडवाणी जी को बुढ़ापे में अचानक ये क्या हो गया!’

जब पुलिस उन्हें पकड़कर ले जा रही थी, तो जाते-जाते वो पत्रकारों से बोले कि “अगर मुझे पता होता कि जिस काम के लिये मैं छैनी-हथौड़ा चला रहा हूँ, वो ही पूरा नहीं होगा तो मैं कभी ऐसा काम ना करता!”

जब पत्रकारों ने उनसे पूछा कि “आपका कौन सा ऐसा काम है, जो पूरा नहीं हुआ?” तो आडवाणी जी मरी हुई हँसी हँसते हुए बोले- “अब छोड़ो! सारी दुनिया को पता है!”

आडवाणी जी के इस कृत्य से बीजेपी के सारे नेता भन्नाए हुए हैं। पार्टी के प्रवक्ता जीएल नरसिम्हा ने आडवाणी जी को ‘बाबर का नाती’ बताते हुए कहा कि “हमें इतना अंदाज़ा नहीं था कि ये बुढ़ऊ यहाँ तक पहुँच जायेंगे! मार्गदर्शक मंडल से अब और कहाँ भेजें इन्हें!”

उधर, जब यह ख़बर मुलायम सिंह यादव को पता चली तो उन्होंने कहा कि “जव अडवायी जी नै मय्यिद तोयी थी, तव वो लयके थे, इसलिये उन सै गयती हो गई थी! अब बुआपे मैं अकय आ गयी है!”



ऐसी अन्य ख़बरें