Sunday, 25th June, 2017
चलते चलते

रात को बुर्क़ा पहनकर सड़कों पर घूमेंगे अबु आज़मी, साबित करेंगे कि बुर्क़ेवाली औरत सेफ़ रहती है

03, Jan 2017 By बगुला भगत

मुंबई. समाजवादी पार्टी की महाराष्ट्र इकाई के अध्यक्ष अबु आज़मी ने एलान किया है कि वो बुर्क़ा पहनकर आधी रात को मुंबई की सड़कों पर घूमेंगे। आज़मी का कहना है कि “मैं साबित करुंगा कि पूरे कपड़े पहनने वाली महिला को हमारे देश में कोई नहीं छेड़ता।” तारीख़ के बारे में पूछने पर उन्होंने बताया कि वो 5 जनवरी से 15 जनवरी के बीच की किसी रात को ये काम करेंगे। श्री आज़मी बंगलुरु की उन लड़कियों से बेहद नाराज़ बताये जा रहे हैं, जिन्होंने स्कर्ट पहनकर भोले-भाले लड़कों को छेड़छाड़ करने के लिये उकसाया

abu-azmi2
पत्रकारों को बुर्क़ा पहनकर दिखाते अबु आज़मी

आज दोपहर अपने घर पर बुलायी गयी प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने पत्रकारों को बुर्क़ा पहनकर ट्रायल भी दिखाया और बुर्क़े के फ़ायदे भी गिनवाये। फिर विक्ट्री का साइन बनाते हुए कहा कि “मैं साबित करुंगा कि लोग स्कर्ट पहनने वाली लड़की को गंदी नज़र से देखते हैं और बुर्क़े वाली औरत को शरीफ़ों की नज़र से!”

अपनी बात को समझाते हुए उन्होंने कहा कि “देखिये, इसका रीज़न है! पहली बात तो बुर्क़े वाली औरत का पता ही नहीं चल पाता कि वो दिखने में है कैसी! इस वजह से छेड़खानी का 50% चांस तो वैसे ही ख़त्म हो जाता है। बचा 50 परसेंट! इस 50 में से 20 परसेंट ये सोचकर नहीं छेड़ते कि कहीं बुर्क़े में अपने ही घर की लेडी ना हो और 20 परसेंट सोचते हैं कि बुर्क़ा है तो कोई ज़्यादा उमर की ही ख़ातून होगी। यानि बचे हुए 10% एडवेंचरिस्ट क़िस्म के लड़के ही थोड़ी-बहुत छेड़छाड़ कर सकते हैं। और स्कर्ट में तो पूरे 100% चांस रहते हैं भाईसाब!”

हालांकि आज़मी बुर्क़ा पहनकर रात में अकेले घूमने पर आमादा हैं लेकिन उनके घरवाले और रिश्तेदार कोई रिस्क लेने को तैयार नहीं हैं। उन्होंने छुपकर उनके पीछे चलने का प्रोग्राम बना लिया है। आज़मी के बेटे फ़रहान ने फ़ेकिंग न्यूज़ को बताया कि “ये इंडिया है बाबू! यहां कबूतर भी एक पंख से उड़ता है और दूसरे से अपना इज्जत बचाता है।”

“अंधेरा होने के बाद यहां किसी की इज़्ज़त सेफ़ नहीं है। इसलिये हम कोई रिस्क नहीं ले सकते। सेफ़्टी के लिये हमारे आदमी उनसे थोड़ी दूरी पर उनके पीछे-पीछे चलेंगे।” -फ़रहान ने अपने प्लान का ख़ुलासा करते हुए कहा।



ऐसी अन्य ख़बरें