Saturday, 19th August, 2017

चलते चलते

जूतों के लगातार निशाना चूकने से निराश हैं अभिनव बिंद्रा, अपनी शूटिंग रेंज में देंगे युवाओं को ट्रेनिंग

28, Sep 2016 By anandnirmal

चंडीगढ़. प्रख्यात शूटर और ओलंपिक पदक विजेता अभिनव बिंद्रा देश में निशानेबाज़ी की हालत से नाराज़ हैं। बिंद्रा इस बात से बेहद आहत हैं कि देश में जूतों का निशाना लगातार चूकता जा रहा है। उनका कहना है कि “देश में योग्य प्रतिभाओं के होते हुए भी फेंके गए जूते सही निशाने पर नहीं लग पाते हैं। सही ट्रेनिंग के अभाव में युवाओं के निशाने लक्ष्य से चूक रहे हैं। यहाँ तक कि 5 फ़ीट से भी कम दूरी से फेंकी गयी स्याही भी चेहरे पर कम और कमीज पर ज़्यादा गिरती है। इस से पता चलता है कि हमारे युवाओं में एकाग्रता और फ़ोकस की कितनी कमी है।”

Abhinav
फ़ोकस हमेशा यहां चेहरे पर होना चाहिये- अभिनव

चूंकि ओलंपिक ख़त्म होने के बाद बिंद्रा आजकल पूरी तरह खाली हैं, इसलिये उन्होंने घोषणा की है कि “निशानेबाज़ी सीखने के इच्छुक युवाओं (और अधेड़ों) को मैं अपनी पर्सनल शूटिंग रेंज में सही निशाने पर जूता एवं स्याही फेंकने की ट्रेनिंग दूंगा।” कोर्स के बारे में विस्तार से बताते हुए उन्होंने कहा कि “तीन माह की इस ट्रेनिंग के दौरान प्रशिक्षुओं को सही साइज़ और सही वज़न के जूते का चयन करना, हवा की दिशा भांपना, एकाग्रता, निशाने पर फोकस और तनाव पर काबू पाने जैसी प्रोफेशनल ट्रेनिंग दी जाएगी।”

अंत में इस पूर्व ओलंपियन ने कहा कि “मेरा लक्ष्य है कि 2019 के चुनाव के दौरान देश में किसी भी बंदे का निशाना ना चूके। शत-प्रतिशत सटीक निशाने वाले युवा तैयार करना ही मेरी प्राथमिकता रहेगी। मेरे इस मिशन की पंचलाइन होगी- ‘फेंकेगा इंडिया-न चूकेगा इंडिया!”



ऐसी अन्य ख़बरें