Friday, 20th October, 2017

चलते चलते

आरक्षण मांगने वालों के लिये एक अलग राज्य बनाएगी सरकार, वहीं पर होंगे सारे विरोध-प्रदर्शन

02, Jun 2016 By banneditqueen

नई दिल्ली. देश में आये दिन आरक्षण के लिये विरोध प्रदर्शन होते रहते हैं- कभी इस प्रदेश में तो कभी उस प्रदेश में। इस वजह से सुरक्षा बलों के जवान हर समय इधर से उधर दौड़ते रहते हैं और सरकारी और निजी संपत्ति का भी बहुत नुकसान होता है।

reservation
ट्रक जलाकर विरोध का श्रीगणेश करते प्रदर्शनकारी

इस समस्या से छुटकारा पाने के लिये सरकार ने एक नया राज्य बनाने की घोषणा की है, जो सिर्फ़ आरक्षण की माँग करने वाले लोगों के लिये होगा। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने फ़ेकिंग न्यूज़ को दिये एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में बताया कि “देश की जो भी जाति आरक्षण या अपनी किसी और मांग के लिये विरोध-प्रदर्शन करना चाहती है, वो यहां आकर आराम से कर सकती है।”

“हम विरोध प्रदर्शनों पर तो रोक नहीं लगा सकते लेकिन उनसे होने वाले नुकसान को ज़रूर कम कर सकते हैं। इसलिये हम इस राज्य में पहले से ही टूटी हुई रेल की पटरियाँ, टूटा-फूटा फर्नीचर और सड़े-गले ट्रक और बस रखेंगे। यही नहीं, उसमें दुकानें और घर भी बेकार पड़े सामान से बनाए जाएंगे।”

श्री राजनाथ ने आगे कहा- “अब तो देश में ऐसी कोई जाति ही नहीं बची, जिसे रिज़र्वेशन नहीं चाहिये। इससे नये राज्य में ओवरलैपिंग की समस्या खड़ी हो सकती है। इसलिये आरक्षण-प्रेमियों को वहां एडवांस में ही बुकिंग करानी होगी। और हां! इस राज्य में एक महीने में सिर्फ एक ही जाति के लोग प्रदर्शन कर सकते हैं।” इसके बाद राजनाथ नये राज्य का राज्यपाल चुनने के लिये चुनाव में हारे बीजेपी नेताओं के नामों की लिस्ट देखने लगे।

उधर, ‘आआपा’ सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल जी इस ख़बर से काफी खुश हैं क्योंकि पहली बार किसी ने प्रदर्शन करने वालों की सुध ली है। आरक्षण सम्राट हार्दिक पटेल ने भी जेल के अंदर से इस फैसले का स्वागत किया है। हालाँकि जाट इस ख़बर को सुनकर खुश नहीं हैं क्योंकि इस महीने होने वाले प्रदर्शन में उन्हें किस ट्रक को जलाना है, कौन सी पटरी उखाड़नी है और कौन सी सड़क खोदनी है, इसकी तैयारी वे पहले ही कर चुके थी।

इसके उलट, न्यूज़ चैनल वाले इस ख़बर को सुनकर उछल रहे हैं क्योंकि अब उन्हें आरक्षण की खबरों के लिये अलग-अलग राज्यों की सैर नहीं करनी पड़ेगी। कुछ पत्रकारों ने तो एक्सक्लूसिव जानकारी के लिये अभी से नये राज्य की लोकेशन पर डेरा जमा लिया है। सरकार को आशंका है कि कहीं ये लोग भी अब न्यूज़ के लिये आरक्षण की माँग ना शुरु कर दें।



ऐसी अन्य ख़बरें