Friday, 18th August, 2017

चलते चलते

केजरीवाल से तुलना किये जाने पर भड़के तमराज किलविश, कहा हम अँधेरा फैलाते हैं रायता नहीं

28, Oct 2016 By Pagla Ghoda

मुम्बई: “अँधेरा कायम रहे” के मशहूर नारे से देश भर में जाने जाने वाले व्यक्ति किलेशप्रसाद विशम्भरनाथ जमघटिया जिन्हें के इन शार्ट किलविश भी कहा जाता है आजकल मुम्बई में अपना NGO चला रहे हैं। उन्हें “तमराज किलविश” कहने वाले उनकी नुमाइंदो की संख्या आज भी कम नहीं है। हाल ही में एक प्रेस कांफ्रेंस में मीडिया से बात करते हए तमराज किलविश तब भड़क उठे जब एक रिपोर्टर ने उनकी तुलना आम आदमी पार्टी के सुप्रीमो नेता और देश के जाने माने अभिनेता श्री अरविन्द केजरीवाल जी से कर डाली। पेश है उस प्रेस वार्ता के कुछ अंश:

गुस्साए तमराज किलविश
गुस्साए तमराज किलविश

रिपोर्टर: तमराज, आप आजकल एक सोशल वर्कर हैं, अपना NGO चलाते हैं। इस बीच लोग कह रहे हैं के आप राजनीति में घुसने वाले हैं और अपनी पॉलिटिकल पार्टी बनाने वाले हैं क्या ये सच है?

तमराज किलविश: देखिये भविष्य में हम क्या करने वाले हैं ये कोई नहीं जानता। भविष्य अन्धकार के समान काला है, अज्ञात है। इसीलिए हम कहते हैं कि अँधेरा कायम रहे हमेशा। तभी कायम रहेगा तुम्हारा वजूद।

रिपोर्टर: नहीं आपने मेरे सवाल का जवाब नहीं दिया? लोग कह रहे हैं के आप पॉलिटिकल पार्टी बनाने वाले हैं जो के एकदम नए तरह की, यानी के बदलाव की राजनीति लाएगी। जैसे कि अरविन्द केजरीवाल जी ने कहा था, क्या आप भी उन्हीं की तरह ….

तमराज किलविश: चुप कर जा मूर्ख, हमारी तुलना उनसे मतकर जो रायता फैलाते हैं, हम सिर्फ अँधेरा फैलाते हैं। निकाल बाहर करो इस दुष्ट पापी को, जो हमारा स्तर गिरा देना चाहता है।

उसी समय तमराज किलविश के नुमाइंदों ने उस पत्रकार को घसीटते हुए प्रेस कांफ्रेंस से बाहर कर दिया। इसके बाद और किसी पत्रकार की कुछ भी पूछने की हिम्मत नहीं हुई। उसके तुरंत बाद किलविश और उनके नुमाइंदों ने अपने हाथ क्रॉस स्टाइल में लॉक करके “अँधेरा कायम रहे” का मंत्र जप करना शुरू कर दिया और हमेशा की तरहअपने ही स्थान पर गोल गोल घूमने लगे। यही सिग्नल था के प्रेस कांफ्रेंस समाप्त हो चुकी है और रिपोर्टर अब चाय और समोसे का नाश्ता प्राप्त करने के लिए बाजू वालेकमरे में जा सकते हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें