Monday, 26th June, 2017
चलते चलते

मशीन से रोज़ाना कई कप चाय-कॉफ़ी डकारने वाले कर्मचारी की सैलरी से HR ने काटे पांच हज़ार रुपये

20, Jun 2017 By Pagla Ghoda

गुरुग्राम: गुड़गावं की उभरती स्टार्टअप कंपनी ब्लू चिंगारा सॉफ्टवेयर सोल्यूशंस के कर्मचारी मंगेश कामबोझिका की आँखों से तब आंसू निकल आये जब उसकी इस महीने की पगार में से पूरे पांच हज़ार पांच सौ पैंतीस रूपये काट लिए गए। HR से पूछने पर उसे जवाब मिला के पिछले महीने उसने ऑफिस में लगी कॉफ़ी मशीन से लगभग एक सौ पैंतीस कप चाय और छिहत्तर कप कॉफी के पिए हैं। चूँकि इस प्रकार के पेय-पदार्थ भत्ते का कोई भी प्रावधान उसके ऑफर लेटर में नहीं था, इसी कारण मजबूरन HR को उससे पेय-पदार्थों की पूरी कीमत सर्विस टैक्स और वैट समेत वसूलनी पड़ी।

coffee machine1
कॉफी डकारते मंगेश कामबोझिका

कंपनी की सीनियर एग्जीक्यूटिव HR मैनेजर साक्षी प्रताप वसूलीराय ने बताया, “हम एम्प्लाइज की सभी सुख सुविधा का ध्यान रखते हैं इसलिए ऑफिस में जगह जगह, वाटर कूलर और कॉफ़ी मशीन लगे पड़े हैं। परन्तु कुछ एम्प्लोयी, जिनका मैं नाम नहीं लेना चाहूंगी, वो इन सुविधाओं का गलत फायदा उठाते हैं। अत्यधिक चाय कॉफ़ी पीते हैं, ऑफिस में पड़े कैरम-बोर्ड का पाउडर चुराके घर ले जाते हैं और उसे टेलकम पाउडर की तरह इस्तेमाल करते हैं। बाथरूम से टिशूज़ चुराके अपने घर में टिशू बॉक्स भर लेते हैं। लेकिन मेरे रहते ये सब नहीं होगा। ऐसे एम्प्लाइज को चेक में रखने के लिए मैं लगातार पूरा दिन ऑफिस के राउंड लेती रहती हूँ। मेरे फिटबिट गैजेट में चेक करिये, रोज़ पंद्रह किलोमीटर चलती हूँ।”

हालाँकि मंगेश ने इस मामले में कोई भी टिपण्णी करने से इंकार कर दिया, पर ये ज़रूर बताया के ये पहला मौका नहीं था जब ब्लू चिंगारा सॉफ्टवेयर सोल्यूशंस के किसी एम्प्लोयी की पगार काटी गयी हो। मंगेश के अनुसार दो महीने पहले परीक्षित गुड़िया नामक एम्प्लोयी की पगार से भी साढ़े तीन हज़ार रूपये केवल इसलिए काट लिए गए थे क्योंकि उसने दस्त की शिकायत के चलते एक ही हफ्ते में शौचालय का अत्यधिक इस्तेमाल किया था और टॉयलेट पेपर के कई रोल इस्तेमाल कर डाले थे। इस विषय पर HR ने “नो कमेंट्स” कहकर अपना पल्ला तो झाड़ लिया पर दबे शब्दों में स्वीकार किया के कंपनी पॉलिसी के अंतर्गत किसी भी तरह की ऑफिस फैसिलिटी के अत्यधिक इस्तेमाल की सख्त मनाही है, चाहे वो शौचालय क्यों न हो।



ऐसी अन्य ख़बरें