Sunday, 28th May, 2017
चलते चलते

प्रदूषण पर मीटिंग करने से 'प्रदूषण' हो जाता है कम, वैज्ञानिकों ने की पुष्टि

07, Nov 2016 By Ritesh Sinha

दिल्ली. पहले ये मानकर चला जाता था कि प्रदूषण कम करने के लिए जनता का जागरूक होना सबसे ज्यादा आवश्यक है। लेकिन इस धारणा पर अब पूर्ण विराम लग चुका है। वैज्ञानिकों के एक दल ने कई सालों की रिसर्च से पता लगाया है कि अफसरों के साथ मीटिंग करने से भी प्रदूषण कम हो जाता है। खासकर भारत में तो लगातार मीटिंग करके प्रदूषण के स्तर को काफी हद तक कम किया जा सकता है। यही कारण है कि इन दिनों पूरे उत्तर भारत में सभी सरकारें प्रदूषण कम करने के लिए लगातार मीटिंग कर रहे हैं।

प्रदूषण कम करने मीटिंग करते केजरीवाल
प्रदूषण कम करने मीटिंग करते केजरीवाल

इस महत्वपूर्ण रिसर्च में मुख्य भूमिका निभाने वाले पर्यावरण वैज्ञानिक (environmental scientist) प्रकृति कुमार ने फेकिंग न्यूज़ को बताया कि- “पहले हमें भी लगता था कि मीटिंग करने से प्रदूषण कम नहीं होता है, लेकिन हम गलत थे। हमने रिसर्च में पाया कि जिस दिन मुख्यमंत्री प्रदूषण कम करने के लिए अपने अफसरों के साथ मीटिंग करते हैं, उस दिन प्रदूषण का स्तर आश्चर्यजनक रूप से कम हो जाता है। लेकिन जब मीटिंग नहीं होती है तो प्रदूषण फिर से बढ़ जाता है। दरअसल मीटिंग और प्रदूषण दोनों का एक दूसरे से गहरा रिश्ता है, You Know!. अब तो हम भी ज्यादा से ज्यादा मीटिंग करने की सलाह देते हैं।”-प्रकृति जी ने समझाया।

उधर, इस खुलासे के बाद दिल्ली वालों ने भी राहत की सांस ली है। उन्हें लगता है कि दस पंद्रह मीटिंग और करने के बाद दिल्ली फिर से रहने लायक हो जाएगी। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने भी अपने सभी दौरे रद्द कर दिए हैं और लगातार मीटिंग करके प्रदूषण को कम करने का प्रयास कर रहे हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें