Wednesday, 20th September, 2017

चलते चलते

बेहिसाब चखना खाते हुए पकडे जाने पर छात्र को हॉस्टल दारु-पार्टी से खदेड़ा गया, कॉलेज से निकालने की उठी मांग

18, May 2015 By Pagla Ghoda

ऐ बी सी इंजीनियरिंग कॉलेज: कॉलेज के मुख्य छात्रावास में चल रही एक सामान्य दारु पार्टी में उस समय हाहाकार मच गया जब जीतेन नाम के एक छात्र को बेहिसाब चखना खाते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया और उसने स्वीकार किया के वह उस पार्टी में सिर्फ चिप्स नमकीन इत्यादि खाने के लिए शरीक हुआ था ना कि मदिरापान के लिए। इसके तुरंत बाद पूरी पार्टी में शोर मच गया और जीतेन को पीट पीट कर पार्टी से खदेड़ दिया गया । ये पूरा वाक्या उस समय हुआ जब ऐ बी सी इंजीनियरिंग कॉलेज के सारे कोर्सेज के छात्रों की परीक्षाएं पूरी होने के बाद मुख्य छात्रावास के प्रांगण में एक भव्य “ड्रिंक्स एंड स्नैक्स पार्टी” का आयोजन किया गया था।

परिमल नाम के एक छात्र ने, जो उस पार्टी में मौजूद था, इस पूरे वाक्य के कड़े शब्दों में भर्तस्ना करते हुए कहा:

जीतेन का चिप्स प्रेम
जीतेन का चखना प्रेम

“सामान्य तौर पर आप एक दारु पार्टी में मदिरापान करने जाते हैं, और उसके साथ उपलब्ध कुछेक चुने हुए व्यंजन एवं चखना का सेवन आवश्यकतानुसार करते हैं। परन्तु जीतेन महाशय ने तो सारी हदें ही पार कर दीं। चार हल्दी राम आलू भुजिया के पैकेट, तीन अंकल चिप्स, दो बड़े और छह छोटे lays के पैकेट, तीन प्लेट मसाला पीनट्स और दस मसाला पापड़ चट कर जाने के बाद दो बोटेल बिसलेरी की भी पी गया वह दुष्ट पापी। यदि आप मदिरापान कर रहे हैं तो थोड़ा ज़्यादा चखना खा लीजिये, कोई कुछ नहीं कहेगा। परन्तु बिना एक बूँद मदिरा पीये ये सब करना? इस अश्लील कृत्य की जीतेन को कड़ी से कड़ी सज़ा मिलनी चाहिए ताकि भविष्य में कोई और जीतेन न पैदा हो जो यह पाप करने का दुःसाहस कर सके। “

पार्टी के मुख्य संचालक और सीनियर ईयर के छात्र किशोरी ने भी पूरे हादसे पर दुःख ज़ाहिर करते हुए कहा:

“बीयर पीने वालों को चखना नहीं मिल रहा था, व्हिस्की पीने वाले वाटर कूलर में से पानी निकाल के ड्रिंक बना रहे थे, और हमें समझ नहीं आ रहा था के पर्याप्त मात्रा में भोजन सामग्री और मिनरल वाटर के इंतजामात होने के बावजूद चीज़े काम कैसे पड़ रही हैं। फिर जब हमने पूरे एरिया की तलाशी ली तो जीतेन साहब ढेर सारे अधखाये पैकेट्स और खाली बिसलेरी बोतलों के साथ रंगे हाथों पकडे गए। शर्मनाक, मेरे पास शब्द नहीं हैं।”

पार्टी की सह-संचालक श्रुति ने भी इस विषय पर टिप्पणी करते हुए कहा:

“मैं तो साला सुट्टा मारने के लिए कार्नर में गयी तो मैंने देखा के ज़मीन पर चिप्स, नमकीन के पैकेट्स की लड़ी लगी हुए है, उसी को फॉलो करते हुए जब मैं आगे पहुंची तो मैंने देखा के कमीना कुत्ता जीतेन चिप्स नमकीन इत्यादि पेले पड़ा है। मैंने तुरंत किशोरी को सूचना दी और वह भी मौकाए वारदात पर पहुंचा। मुझे तो पूरा शक है के चखना कम पड़ने पर हमने जो परांठे, आमलेट, और अंडा फ्राई मंगवाए थे उसमे में से भी कई प्लेट इसी खदोड़ ने साफ़ किये हैं। shameful act। “

इस हादसे के तथाकथित अभियुक्त जीतेन ने खुद पर लगे सभी आरोपों का खंडन करते हुए कहा है के – “मैं देर से सो कर उठा और तब तक हॉस्टल का मेस बंद हो चूका था। तभी मैंने दारु पार्टी का शोर सुना और वहां जाकर केवल कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन किया। पता नहीं इस छोटी से बात पर क्यों मुझे बेइज़्ज़त करके पार्टी से निकाल दिया गया। और अब जगह जगह मुझपर बेबुनियाद इलज़ाम लगाये जा रहे हैं। मैं इस सब की शिकायत अपने चाचा जी से कर दूंगा जो कि सेशन कोर्ट में टाइपिस्ट हैं। उनकी जान पहचान बड़े बड़े वकीलों से है। यह कॉलेज बंद करवा दूंगा अगर मुझपर हाथ भी डाला गया। “

जहाँ जीतेन खुद को बेकुसूर बता रहा है वही छात्रों के एक बड़े तबके ने इस पूरे मामले की आधिकारिक जांच की मांग की है और जीतेन को तुरंत कॉलेज से निकाले जाने पर भी ज़ोर दिया है। कॉलेज के डीन के ऑफिस से अभी तक इस मामले पर कोई औपचारिक टिप्पणी नहीं आई है, पर सूत्रों के अनुसार जीतेन पर आधिकारिक कार्यवाही की सम्भावना से इंकार नहीं किया जा सकता।



ऐसी अन्य ख़बरें