Friday, 24th March, 2017
चलते चलते

इंटरनेट पर लीक हुई 'कबाली' देख रहे दस युवकों की आंखों की रोशनी गयी, पीड़ितों ने कहा- "रजनी सर का श्राप है ये"

20, Jul 2016 By बगुला भगत

नयी दिल्ली/चेन्नई. इंटरनेट पर लीक हुई फ़िल्म ‘कबाली’ देख रहे दस युवकों की आंखों की रोशनी चली गयी है। ये सभी युवक अपने मोबाइल पर कबाली का हिन्दी वर्ज़न देख रहे थे। उसी दौरान यह आंख-लेवा हादसा हुआ। कुछ जगहों से मोबाइल और लैपटॉप में ब्लास्ट होने की भी ख़बरें आ रही हैं। हालांकि अभी यह नहीं कहा जा सकता कि इन सभी घटनाओँ के पीछे सुपरस्टार रजनीकांत की चमत्कारी शक्तियों का हाथ है।

kabali2
इस सीन को देेखते समय गयी मुकेश की आंखों की रोशनी

आंखों पर काला चश्मा चढ़ाये ‘कबाली-पीड़ित’ मुकेश यादव ने बताया कि “मेरा फ्रैंड संदीप कहीं से कबाली कॉपी करके लाया था। हम उसी को देख रहे थे। स्टार्ट में सब ठीक था लेकिन जैसे ही रजनीकांत की एंट्री हुई, अचानक मोबाइल की स्क्रीन पर तेज़ रोशनी हुई। उसके बाद हमें कुुछ दिखायी नहीं दिया।” -कहते कहते मुकेश के चश्मे के नीचे से आंसूओं की धारा बह निकली।

इस घटना से पूरे देश में ख़ौफ़ पसर गया है। लोग अब मोबाइल पर कबाली का पोस्टर देखने से भी डर रहे हैं। जिन्होंने थोड़ी बहुत फ़िल्म डाउनलोड कर ली थी, उन्होंने उसे तुरंत डिलीट कर दिया। कुछ लोग तो डर के मारे रजनीकांत की पुरानी फ़िल्मों को भी डिलीट कर रहे हैं।

उधर, कुछ लोग इसे रजनी सर का प्रकोप मान रहे हैं। चेन्नई में रजनीकांत के पोस्टर पर दूध चढ़ाते हुए ‘रजनी फ़ैन क्लब’ के प्रेसीडेंट सोमसुंदरम ने कहा कि “लोगों ने सोचा कि ‘उड़ता पंजाब’ और ‘ग्रेट ग्रैंड मस्ती’ की तरह ‘कबाली’ को भी फ्री में देख लेंगे और उनका कुछ नहीं बिगड़ेगा। लेकिन उन्हें पता नहीं कि ये थलाइवा है थलाइवा! समझे!”

हमारे संवाददाता की आंखों के सामने कबाली के एडवांस टिकट लहराते हुए सोमसुंदरम ने कहा- “मालूम है इस फिलिम में रजनी सर क्या बने हैं? कबालीश्वरन! कबाली, जो ईश्वर भी है। तो ईश्वर ने पापियों को उनके किये की सज़ा दे दी।”



ऐसी अन्य ख़बरें