Saturday, 29th April, 2017
चलते चलते

रियलिटी शो कंटेस्टेन्ट की गरीबी के वीडियो पर सैड म्यूजिक ना चलने से आंसू नहीं निकले जजों के

23, Jan 2017 By Pagla Ghoda

मुम्बई. रियलिटी शो “देश के आवाज़, देश का साज़” के पिछले एपिसोड की टीआरपी उस वक़्त काफी नीचे गिर गयी, जब पूरे शो में कोई भी इंसान एक भी बार रोया नहीं। अब अमूमन तो ऐसे शोज में एक ना एक कंटेस्टेंट गरीब तबके का रहता है, और उसकी परफॉरमेंस के पहले उसकी गरीबी के लाइव वीडियोज दिखाए जाते हैं। जिसकी बैकग्राउंड में एक काफी सैड टाइप का रोने वाला म्यूजिक भी बजता है। उसके तुरंत बाद एक ना एक लेडी जज रो पड़ती है और एक ना एक पुरुष जज उठकर उस कंटेस्टेंट को गले लगा लेता है। यह देखकर दर्शक भी काफी सेंटी हो जाते हैं और उस सीन के आस-पास के स्लॉट्स में विज्ञापन भी काफी बिकते हैं। तो एक तरह से सबका नफा होता है।

Judges2
सैड म्यूजिक नहीं बजा और हंसने लगे तीनों जज

लेकिन इस एपिसोड में कुछ तकनीकी खराबी के कारण पीछे का सैड म्यूजिक बज नहीं पाया और ऐन उसी वक़्त लेडी जज और मशहूर फैशन डिज़ाइनर मन्दाकिनी मोज़ेस अपना ग्लिसरीन भी नहीं ढूंढ पायी। तो रोने का और गले लगाने वाला पूरा कार्यक्रम ही मिस हो गया। शो को बीच में रुकवाकर फिर से कोशिश की गयी, गरीबी वाले वीडियोज़ फिर से दिखाए गए। जजों ने बिना उस म्यूजिक, बिना उस माहौल और बिना ग्लिसरीन के रोने का भरसक प्रयास किया लेकिन सभी प्रयास विफल रहे। जैसे-तैसे शूटिंग पूरी करके जल्दी पैकअप किया गया।

बाद में शो के पुरुष जज और मशहूर गीतकार मोनू सरगम ने कहा, “देखिये किसी-किसी दिन फील नहीं आती रोने की, तो मन्दाकिनी जी नहीं रो पायीं। मैं भी आमतौर पर आँखें मलकर दिखाने का प्रयास करता हूँ कि काफी आहत हूँ, दुखी हूँ गरीबों की गरीबी से। और उस दिन भी ऐसा सब एक्टिंग किया पर डायरेक्टर साहब बोले कि फील नहीं आ रही। मैंने कहा रहने दो यार, आज सब अच्छे मूड में हैं, पहले आप अपना बैकग्राउंड सैड म्यूजिक का टेक्निकल प्रॉब्लम ठीक करो, फील शुरू तो वहाँ से ही होती है।”

दूसरी जज मन्दाकिनी मोज़ेस ने भी इस मामले में अपना बचाव करते हुए पूरा ठीकरा साउंड टेक्नीशियन के मथ्थे ही फोड़ा। उन्होंने कहा, “देखिये मुझ पे इल्ज़ामात ना ही लगाएं तो अच्छा! तीस रियलिटी शो कर चुकी हूँ नार्थ और साउथ के मिलाके। हर जगह बाकायदा रो-रो के शोज की टीआरपी बढ़ाई है मैंने। नहीं तो एक फैशन डिज़ाइनर को कोई म्यूजिक शो में क्यों बुलाएगा। मैड डॉगी ने काटा है क्या कास्टिंग वालों को! मिनटों में पूरी ऑडियंस के आंसू छुटवा देती हूँ। मेरे पीछे जो लेडीज बैठी रहती हैं वो तो मेरे रोने की आवाज़ भर से इतना सेंटी हो जातीं हैं कि शो ख़तम होने के बाद भी उनकी सिसकियाँ नहीं रुकतीं। लेकिन आज तो सैड म्यूजिक ही नहीं चला। फीलिंग ही नहीं आयी। इन फैक्ट बीच में उस गरीब कंटेस्टेंट की झोंपड़ी का सीन आया तो उसमें एक घर के बाहर एक क्यूट डॉगी सो रहा था। उसको देख के मुझे बहुत हंसी आ गयी। डायरेक्टर सर ने फ़ौरन कट बोला और मुझे डांटने लगे। This is not done!”

इस शो की टीआरपी को पहले जैसे ऊपर पहुंचाने के लिए अब शो के कॉन्सेप्ट राइटर्स ने एक नया शिगूफा निकाला है। कयास लगाए जा रहे हैं कि मिताली नाम की एक कंटेस्टेंट के चचेरे भाई की ममेरी साली के पड़दादा जी हाल ही में परलोक सिधार गए हैं, तो उनके कुछ “यादें” वाले वीडियोज और फोटोज़ दिखाकर लोगों को सेंटी किया जायेगा। इन वीडियोज के दौरान “यादें याद आती हैं, बातें भूल जाती हैं” जैसे गीत भी थोड़ी तीव्र वॉल्यूम में बजाये जाने की उम्मीद है।



ऐसी अन्य ख़बरें