Friday, 24th November, 2017

चलते चलते

पूरी तैयारी होने के बावजूद जेल तोड़कर नहीं भागे कैदी, 'जुड़वा-2' की रिलीज डेट सुनकर डरे

25, Sep 2017 By Ritesh Sinha

मुंबई. पिछले एक महीने से आर्थर रोड जेल के 8-10 कैदी, जेल से भागने का प्लान बना रहे थे। वे जेल की आखिरी दीवार के पास एक छोटी सी सुरंग बनाकर वहां से निकल जाना चाहते थे। सुरंग बनाने का सामान, टॉर्च, चाकू, मोबाइल, और नक़्शे का इंतजाम इन लोगों ने जेल के भीतर ही कर लिया था। सब कुछ प्लान के मुताबिक चल रहा था।

judwaa2
इस पोस्टर को देखकर डर गये क़ैदी

लेकिन अचानक पांच कैदियों ने इस प्लान में शामिल होने से इनकार कर दिया। यह सुनकर कैदियों के सरदार जग्गू दादा को बहुत गुस्सा आ गया। सुबह खाना खाते वक़्त जग्गू दादा ने इन पांचों की जमकर ख़बर ली। “सालों! पहले तो ‘भागना है..भागना है’ कहते रहते थे सुबह-शाम! अब क्या हो गया? तुम लोगों के चक्कर में मैंने सारा इंतजाम करके रखा है! अब प्लान से पीछे हट रहे हो! पकड़े जाने के डर से फटती है क्या? बुजदिल कहीं के!” -जग्गू दादा ने दांत रगड़ते हुए कहा।

अपने सरदार का गुस्सा देखकर पांचों कैदी थर-थर कांपने लगे। उनमें से एक ने जग्गू दादा के पैर पकड़ लिए और बोला- “नहीं वस्ताद! हम पुलिस की मार से नहीं डरते! लेकिन हम लोग कुछ और दिन यहीं जेल के भीतर रहना चाहते हैं! आजकल मुंबई का माहौल ठीक नहीं है! ख़बर मिली है कि ‘जुड़वा-2’ रिलीज होने वाली है! ऐसे माहौल में जेल, स्वर्ग से कम नहीं है!”

कैदी की बात सुनकर जग्गू दादा भी अवाक रह गए। “क्या बात करते हो? तो मुझे पहले क्यों नहीं बताया! ऐसी बात है तो फिर प्लान कैंसल! इस हादसे को गुजर जाने दो, फिर अगले महीने ट्राई करेंगे! ठीक है!” -जग्गू दादा ने अपना फैसला सुनाया।

“सरदार! पिछली बार, बाबू बजरंगी मुझे जबरदस्ती ‘ढिशूम’ दिखाने ले गया था! वो सीनियर था, तो मैं मना भी नहीं कर पाया! तब से मुझे माइग्रेन की शिकायत है! आपने सही किया जो प्लान कुछ दिन के लिए टाल दिया। ऐसा हादसा किसी के साथ भी हो सकता है!” -एक और कैदी ने अपना दुखड़ा सुनाया। यह सुनकर जग्गू दादा ने उस कैदी को सीने से लगा लिया- “अरे! रोते नहीं हैं पगले! हिम्मत रख! हमने कह दिया ना प्लान कैंसल, तो कैंसल! जाओ ऐश करो! एक महीने बाद देखेंगे!” -कहते हुए जग्गू दादा अपने पंटरों की पीठ थपथपाने लगे।



ऐसी अन्य ख़बरें