Wednesday, 13th December, 2017

चलते चलते

'बेफिक्रे' की वजह से सेंसर बोर्ड ने अपने सारे कर्मचारियों की छुट्टी रद्द की, सब कैंची लेकर प्रैक्टिस में जुटे

13, Oct 2016 By बगुला भगत

मुंबई. सेंसर बोर्ड ने अपने सारे कर्मचारियों की दीवाली और भैय्यादूज की छुट्टियां कैंसल कर दी हैं। जो कर्मचारी ऑलरेडी छुट्टियों पर जा चुके थे, उन्हें भी तुरंत काम पर लौटने के निर्देश दिये गये हैं। यह सब ‘बेफिक्रे’ फ़िल्म की वजह से किया जा रहा है, जो कुछ ही दिनों में पास होने के लिये सेंसर बोर्ड के पास पहुंचने वाली है। इस वजह से सेंसर बोर्ड ने सरकार से कुछ एक्स्ट्रा लोग भी मांगे हैं क्योंकि ‘बेफिक्रे’ की वजह से वर्कलोड बहुत बढ़ जायेगा।

बेफिक्रे के लिये मंगायी गयी कैंची का साइज़ बताते पहलाज

ऐसी ख़बरें भी आ रही हैं कि ‘बेफिक्रे’ में कांट-छांट के लिये सेंसर बोर्ड को ओवरटाइम करना पड़ेगा, जिसके लिये सेंसर बोर्ड के चीफ़ पहलाज निहलानी ने सरकार से एक्स्ट्रा पैसे मांगे हैं। लेकिन पहलाज ने इससे इनकार करते हुए कहा है कि “ये सब अफ़वाह है। मैंने ओवरटाइम के लिये एक भी पैसा नहीं मांगा। मैंने मोदी जी से सिर्फ़ कुछ एक्स्ट्रा लोग मांगे थे क्योंकि हमारे पास इतनी वर्कफोर्स नहीं है, जो एक साथ इतने सारे किसिंग सीन्स को हैंडल कर सके।”

इसके बाद उन्होंने कैंची लहराते हुए कहा- “फिर भी हम सर्जिकल स्ट्राइक के लिये तैयार हैं!” फिर उन्होंने हमारे रिपोर्टर के कान में कहा कि “जितना लंबा ट्रेलर उस आदित्य चोपड़ा ने रिलीज किया है, कांट-छांट के बाद फ़िल्म भी बस उतनी ही बचेगी!”

इस बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘बेफिक्रे’ के दृश्यों पर चर्चा करने के लिये आज सुबह केंद्रीय मंत्रिमंडल की आपात बैठक बुलाई। जिसमें सभी ने फ़िल्म का ट्रेलर देखा और एक स्वर में चुंबन-दृश्यों की निंदा की। बैठक के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने फ्रांसीसी राजदूत फ्रांस्वा रिशर को तलब किया और उन्हें भारत की नाराज़गी से अवगत कराया। उन्होंने रिशर से पूछा कि “फ्रांस ने अपनी ज़मीन पर ‘बेफिक्रे’ जैसी भारत-विरोधी गतिविधियों की इजाज़त कैसे दी?”



ऐसी अन्य ख़बरें