Sunday, 25th February, 2018

चलते चलते

ब्लू व्हेल गेम की वापसी, आख़िरी टास्क में लोगों को राजस्थान में देखनी होगी 'पद्मावत'

21, Jan 2018 By Guest Patrakar

मुंबई. विश्व का सबसे ख़तरनाक और कुख्यात खेल ‘ब्लू व्हेल’ गेम वापस आ चुका है। और अगर सूत्रों की मानें तो अब इस खेल का आख़िरी पड़ाव भारत में खेला जाएगा। जिसमें खिलाड़ियों को राजस्थान के किसी भी थिएटर में ‘पद्मावत’ फ़िल्म के दो शो देखने होंगे।

Padmavati-Deepika-Padukone
ब्लू व्हेल गेम का अंतिम टास्क- पद्मावत

ब्लू व्हेल गेम के निर्माता रूस के फ़िलिप बूडेकी ने एक मेल के ज़रिए इस बात का एलान किया है कि दुनिया भर में हज़ारों की जान लेने वाला गेम अब फिर वापसी कर रहा है। अपनी मेल में फ़िलिप ने लिखा, “मेरे दुश्मनो को ख़ुश होने की ज़रूरत नहीं है। ब्लू व्हेल गेम वापस आ चुका है और इस बार यह खेल और भी ख़तरनाक और दर्दनाक होगा। इस खेल का अंतिम पड़ाव भारत के राजस्थान में खेला जाएगा। जिसमें खिलाड़ियों को सारे टास्क पूरे करने के बाद राजस्थान के किसी भी सिनेमाघर में पद्मावत के दो शो देखने होंगे।”

पिछली बार ब्लू व्हेल गेम के आख़िरी पड़ाव में खिलाड़ियों को छत से कूद के, पटरी पर लेट कर या फाँसी लगा कर ख़ुद की जान लेनी पड़ रही थी। लेकिन इस बार करनी सेना की बदौलत लोग पद्मावत देखते-देखते जान दे सकते हैं। जैसे ही फ़िलिप ने सुना कि करनी सेना ने चेतावनी दी है कि जो कोई पद्मावत देखने जाएगा, वो ज़िंदा नहीं लौटेगा, तो उन्होंने इस खेल का अंत भारत में करने का फ़ैसला कर लिया।

हमने इसके बारे में एक प्रतियोगी से बात की, जो कि भारत का ही है। उसने अपना नाम स्टीव बताया और हमसे अपना असली नाम छुपाने को कहा। स्टीव ने हमें बताया “खेल के प्रतियोगी और निर्माता लोगों के छतों से गिरने से बोर हो गए थे, इसलिए उन्होंने कुछ नया करना का फ़ैसला लिया। ऐसे में करनी सेना की चेतावनी डूबते को तिनके का सहारा जैसे काम आयी। अगर सब सही रहा तो दुनिया भर से लाखों लोग भारत आएँगे और राजस्थान में पद्मावत देखने जाएँगे। जहाँ करनी सेना उनका इंतज़ार पहले से ही कर रही होगी। इस से प्रतियोगियों और भारत दोनो का फ़ायदा है। प्रतियोगियों को नया थ्रिल मिल जाएगा और भारत के टूरिज़्म सेक्टर को बूस्ट!”

देखना होगा कि क्या करनी सेना अपने वादे पर खरा उतरती है या ब्लू व्हेल गेम के प्रतियोगियों को निराशा का सामना करना पड़ेगा।



ऐसी अन्य ख़बरें