Friday, 22nd September, 2017

चलते चलते

भारत की सभी मौसियों ने की हिमेश के नये एलबम 'आप से मौसी की' जमकर तारीफ़

26, Dec 2016 By bapuji

मुंबई. माँ और बाप पर तो आप ने बहुत गाने सुने होंगे। जीजा-साली और देवर- भाभी पर भी अनेकों हिट फिल्मी गीत बने हुए है। पुलिस बुलाने वाली ‘आंटी’ पर भी गाने लिखे जा चुके हैं लेकिन माँ की बहन- मौसी या मासी पर आज तक कोई हिट गीत नही बना। फिल्म और म्यूजिक इंडस्ट्री की उपेक्षा का शिकार मासी समाज इस बात को लेकर काफ़ी दुखी था लेकिन अब उनका ये दुख दूर हो गया है। स्टार म्यूजिक डायरेक्टर, जज, एक्टर, सुपरस्टार सिंगर और पता नहीं क्या-क्या हिमेश रेशम्मियाँ (Reshammiya) ने अपना नया एलबम उपेक्षित मौसी समाज को ही समर्पित किया है, जिसका नाम है ‘आप से मौसी की’!

Aap Se Mausiiqii
मौसी को याद करके इमोशनल होते हिमेश रेशम्मिया

‘आप से मौसी की’ के म्यूजिक लॉन्च पर फिल्म इंडस्ट्री की कई सारी मौसियां मौजूद रहीं। हिमेश ने भी एलबम के कई गाने गाकर माहौल जमा दिया और लोग नाचते और दौड़ते नज़र आए। जिनके बारे में कुछ लोगों ने अफ़वाह फैलायी कि वे हिमेश की नाक के हमले से जान बचाकर भाग रहे थे। हिमेश की फ़ैन पिंटू की मौसी ने फेकिंग न्यूज़ संवाददाता से बातचीत करते हुए कहा कि “भगवान के घर देर है अंधेर नही! माँ, बाप, बहन, गर्लफ्रेंड के गाने तो 50 सालों से बन रहे हैं, पहली बार किसी ने मौसियों पे गाना बनाया है। ये  नई शुरुआत करने वाले हमारे हिमेश बेटे की जितनी तारीफ़ की जाए, उतनी कम है!”

वो ये कह ही रही थीं कि तभी म्यूजिक लॉन्च में भगदड़ मच गयी। अलीगढ़ से आए एक वरिष्ठ शायर और उर्दू के जानकार नवाब शौकीन अली-अल-महबूबी ने एक मौसी को बताना चाहा कि एलबम का नाम “आप से मौसी की” दरअसल में, ‘मौशिक़ी’ है, जिसका उर्दू में मतलब म्यूजिक या संगीत होता है और इसका साधारण हिन्दी वाली मौसियों से कोई वास्ता नहीं है। इस पर समस्त मौसी समुदाय भड़क गया और उसने शायर साहेब की जमकर धुनाई कर दी और उन्हें बाहर फेंक दिया गया। चप्पल लेकर कुटाई करती डॉली मौसी ने गुस्से से कहा कि “सालों बाद तो हम पे गाना बना है और ये आ गया ज्ञानी जैल सिंह का चाचा बनने!” जब ये कुटाई-कार्यक्रम चल रहा था, उसी समय स्मार्टफ़ोन पर कुछ लोग गूगल एप पर मौशीकी का मतलब पूछते नज़र आये।



ऐसी अन्य ख़बरें