Sunday, 22nd October, 2017

चलते चलते

देश में तेज़ी से बढ़ रही है अभिषेक बच्चन को 'एक्टर' मानने वालों की संख्या, सरकार चिंतित

25, Mar 2017 By Ritesh Sinha

मुंबई. सूचना मिली है कि देश में उन लोगों की संख्या तेज़ी से बढ़ रही है जो आज भी अभिषेक बच्चन को ‘एक्टर’ मानते हैं। कुछ दिनों पहले सिर्फ 4% जनता ही उन्हें एक्टर मानती थी जो अब तेज़ी से बढ़कर 4.5% हो गई है। जाहिर है इन आंकड़ों को देखकर केंद्र सरकार जरा भी खुश नहीं है। एक्टर मानने वालों को इससे पहले भी चेतावनी दी गई थी लेकिन वे अपनी गलती स्वीकार करने के मूड में नहीं हैं और बार-बार ‘धूम’ का हवाला देकर उन्हें एक्टर साबित करने में जुटे हुए हैं। हालाँकि इस समस्या से निपटने के लिए केंद्र और महाराष्ट्र सरकार ने अभी तक कोई ठोस कदम नहीं उठाया है, लेकिन माना जा रहा है कि सरकार को कुछ ना कुछ तो करना ही पड़ेगा।

खुद को ऐक्टर मानने वालों की संख्या सुन मुस्कुराते अभिषेक
खुद को ऐक्टर मानने वालों की संख्या सुन मुस्कुराते अभिषेक

अभिषेक बच्चन के पैदाईशी फैन पिलेश पटवर्धन ने बताया कि “आप लोग उसे इंडस्ट्री से क्यों बाहर करना चाहते हो? मेरी समझ में नहीं आता? ‘दोस्ताना’ में क्या एक्टिंग की है भाई ने! और फिर ‘बोल बच्चन’ के बारे में तो ना ही बोलें तो अच्छा है। एकदम झक्कास। अकेले ही मेला लूट लिया ‘अभि’ भाई ने। ये होती है एक्टिंग समझे! देखना! भाई एक बार फिर वापसी करेंगे और धूम मचा देंगे।”-कहते हुए वह अपने मोबाइल में “नाच” फिल्म देखने लगा।

इस बारे में हमने खुद अभिषेक बच्चन से भी बात की। उन्होंने बताया कि “ये तो मेरे लिए ख़ुशी की बात है कि लोग मुझे आज भी एक्टर मानते हैं। वरना मैं तो कबड्डी में ही ज्यादा ध्यान दे रहा था। वैसे मैं भी चुप नहीं बैठा हूँ, लगातार अच्छी स्क्रिप्ट की तलाश में हूँ। जैसे ही अच्छी स्क्रिप्ट हाथ लगेगी एकाद डायरेक्टर भी ढूंढ ही लूंगा।” कहते हुए अभिषेक कुछ खाली पन्ने पलटने लगे।

वहीँ, इस खबर से फिल्म इंडस्ट्री के लोग भी बेहद खुश हैं। उदय चोपड़ा ने चहकते हुए बताया कि “लोग कहते हैं कि जनता की याददाश्त बहुत कमजोर होती है, लेकिन मैं ऐसा नहीं मानता। जब लोग अभिषेक को नहीं भूले हैं तो इसका मतलब है वे मुझे भी नहीं भूले होंगे। कल ही किसी डायरेक्टर को चाकू की नोंक पर मुझे लांच करने के लिए कहता हूँ।” उदय चोपड़ा के इस एलान के बाद देश में निराशा का माहौल छा गया है।



ऐसी अन्य ख़बरें