Wednesday, 13th December, 2017

चलते चलते

राकेश झुनझुनवाला का फैन था युवक, अब 'बिटकॉइन' की पूजा करते नहीं थकता

04, Dec 2017 By Ritesh Sinha

मुंबई. पिछले एक साल में जहाँ बिटकॉइन का भाव विजय माल्या से भी ज्यादा बढ़ गया है। वहीं, दूसरी ओर स्टॉक मार्केट ऊपर तो जा रहा है, लेकिन कछुए की रफ़्तार से! वैसे तो पोवई का रहने वाला सौरभ जैन, राकेश झुनझुनवाला का बहुत बड़ा फैन है और एक दिन उनके जैसा ही एक सफल इन्वेस्टर बनना चाहता है। उसने अपने रूम में वॉरेन बफेट, जॉर्ज सोरोस के फोटो भी लटका रक्खे हैं, लेकिन बिटकॉइन की प्रोग्रेस देखकर उसका प्यार स्टॉक मार्केट से कम होता गया और ‘स्टॉक जिहाद’ करते हुए उसने बिटकॉइन को अपना दिल दे दिया।

bitcoin-jhunjhunwala
झुनझुनवाला और बिटकॉइन -एक ही सिक्के के दो पहलू

जब से सौरभ बिटकॉइन में शिफ्ट हुआ है, उसके दोस्त उसे गद्दार कहने लगे हैं। उधर, सौरभ ने अपना बचाव करते हुए कहा है कि “मैंने भी चार साल तक राकेश झुनझुनवाला बनने की कोशिश की यार! लेकिन कुछ फायदा नहीं हुआ, कभी दो रूपए का फायदा हो जाए तो अगले दिन ढाई रूपए का नुकसान हो जाता है! एक हफ़्ते पहले ही लंबा नुकसान हुआ है मेरा! ऐसे में मैं बिटकॉइन नहीं खरीदूंगा तो और क्या करूँगा?” -उसने तर्क दिया।

“मार्केट 12-13% रिटर्न दे रहा है और मेरा प्यारा बिटकॉइन एक साल में ही दोगुना हो जाता है! ऊपर से दिन भर कुर्सी में बैठे-बैठे कमर में दर्द होता है सो अलग! बहुत सहा है यार मैंने! बिटकॉइन वालों को देखो! कहाँ से कहाँ पहुँच गए!” -कहते हुए वह बिटकॉइन चालीसा पढ़ने लगा।

अब सौरभ बिटकॉइन में ही अपनी किस्मत आजमाता है, और लगभग उसकी पूजा करता है। वहीं, बिटकॉइन का विरोध करने वाले स्टॉक ब्रोकर्स ने सौरभ के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। सुपर प्रॉफिट ब्रोकर्स के मुखिया मनीलाल छाबड़ा ने बताया कि “हम सौरभ की कड़ी निंदा करते हैं! क्या ज़रूरत थी उसे हमारा घोंसला छोड़कर बिटकॉइन के घोंसले में जाने की! वैसे भी ‘बिटकॉइन’ काला धन टाइप लगता है मुझे! इसलिए हम सौरभ के ख़िलाफ़ आंदोलन करेंगे और उसे वापस लाकर ही रहेंगे!”



ऐसी अन्य ख़बरें